Drama

Aa Jao Ke Milkar Badlen (Ek Hans Ka Joda)

By  | 

Movie: Ek Hans Ka Joda
Release: 1975
Featuring Actors: Anil Dhawan, Zahira
Music Director: Jaidev Kumar
Lyrics: Naqsh Lyallpuri
Singer: Asha Bhosle
Trivia:

Lyrics in Hindi

आ जाओ के मिलकर बदलें
दुनिया की पुरानी रस्में
इस दौर में दबते रहने
हे अपने लिए नामुमकिन
नामुमकिन नामुमकिन
आ जाओ के मिलकर बदलें
दुनिया की पुरानी रस्में
इस दौर में दबते रहने
हे अपने लिए नामुमकिन
नामुमकिन नामुमकिन

जीने का हमें भी हक़ है
हमको भी है यह आज़ादी
चाहे तो रहे हम सिंगल
चाहे तो रचले शादी
जीने का हमें भी हक़ है
हमको भी है यह आज़ादी
चाहे तो रहे हम सिंगल
चाहे तो रचले शादी
क्यों बंधे गले में घंटी
माँ बाप के कहने पर हम
बिन देखे बिना पहचाने
क्यों कहे किसी को हम दम
कहे किसी को हम दम
क्यों कहे किसी को हम दम
मजबूत इरादे हो तो
समझो हे सभी कुछ मुमकिन
मजबूत इरादे हो तो
समझो हे सभी कुछ मुमकिन
इस दौर में दबते रहने
हे अपने लिए नामुमकिन
नामुमकिन नामुमकिन
इस दौर में दबते रहने
हे अपने लिए नामुमकिन
नामुमकिन नामुमकिन

जाल जाल के ज़माने वाले
क्यों देखे हमारा पैशन
तन भी हमारे है उजली
दिल भी है हमारे रोशन
जाल जाल के ज़माने वाले
क्यों देखे हमारा पैशन
तन भी हमारे है उजली
दिल भी है हमारे रोशन
हम रहे किसी से पीछे
हमको मंजूर नहीं है
क़दमों पे जुकेगी दुनिया
वो दिन अब दूर नहीं है
वो दिन अब दूर नहीं है
वो दिन अब दूर नहीं है
वो दिन अब दूर नहीं है
अब दूर नहीं है वो दिन

वो दिन अब दूर नहीं है
अब दूर नहीं है वो दीं
इस दौर में दबते रहने
हे अपने लिए नामुमकिन
नामुमकिन नामुमकिन
इस दौर में दबते रहने
हे अपने लिए नामुमकिन
नामुमकिन नामुमकिन
पछिम से निकल कर सूरज
पूरब में ढले मुमकिन है
पछिम से निकल कर सूरज
पूरब में ढले मुमकिन है
इस दौर में दबते रहने
अब अपने लिए नामुमकिन
नामुमकिन नामुमकिन
इस युग में दबते रहने
हे अपने लिए असंभव
असम्भव असंभव
इस ऐज में दबते रहने
हे अपने लिए इम्पॉसिबल
इम्पॉसिबल इम्पॉसिबल.


Lyrics in English

Aa jao ke milkar badlen
Duniya ki purani rashmein
Ess daur mein dabte rehna
He apne liye namumkin
Namumkin namumkin
Aa jao ke milkar badlen
Duniya ki purani rashmein
Ess daur mein dabte rehna
He apne liye namumkin
Namumkin namumkin

Jeene ka hame bhi haq hai
Humko bhi he yeh aazadi
Chahe to rahe hum singal
Chahe to rachale shadi
Jeene ka hame bhi haq hai
Humko bhi he yeh aazadi
Chahe to rahe hum singal
Chahe to rachale shadi
Kyu bandhe gale mein ganti
Ma bap ke kahne par hum
Bin dekhe bina pehchane
Kyu kahe kisi ko hum dum
Kahe kisi ko hum dum
Kyu kahe kisi ko hum dum
Majbut irade ho to
Samjho he sabhi kuch mumkin
Majbut irade ho to
Samjho he sabhi kuch mumkin
Iss daur mein dabte rehna
He apne liye namumkin
Namumkin namumkin
Iss daur mein dabte rehna
He apne liye namumkin
Namumkin namumkin

Jaal jaal ke zamane wale
Kyu dekhe hamara passion
Tan bhi hamare hai ujli
Dil bhi hai hamare roshan
Jaal jaal ke zamane wale
Kyu dekhe hamara passion
Tan bhi hamare hai ujli
Dil bhi hai hamare roshan
Hum rahe kisi se pichhe
Humko manjur nahi hai
Qadmon pe jukegi duniya
Wo din ab dur nahi hai
Wo din ab dur nahi hai
Wo din ab dur nahi hai
Wo din ab dur nahi hai
Ab dur nahi hai wo din

Wo din ab dur nahi hai
Ab dur nahi hai wo deen
Iss daur mein dabte rehna
He apne liye namumkin
Namumkin namumkin
Iss daur mein dabte rehna
He apne liye namumkin
Namumkin namumkin
Pachim se nikal kar suraj
Purab mein dhale mumkin hai
Pachim se nikal kar suraj
Purab mein dhale mumkin hai
Iss daur mein dabte rehna
Ab apne liye namumkin
Namumkin namumkin
Iss yug mein dabte rehna
He apne liye asambhav
Asambhav asambhav
Iss age mein dabte rehna
He apne liye impossible
Impossible impossible.

Leave a Reply