Philosophical

Aapke Anurodh Pe (Anurodh)

By  | 



Song Info

Movie/Album: Anurodh

Release: 1977

Music Director: Laxmikant Pyarelal

Lyrics Anand Bakshi

Singers: Kishore Kumar

Lyrics in Hindi

आप के अनुरोध पर, मैं ये गीत सुनाता हूँ
अपने दिल की बातों से, आप का दिल बहलाता हूँ
आप के अनुरोध पे …

मत पूछो औरों के दुःख में, ये प्रेम कवि क्यों रोता है
बस चोट किसी को लगती है और दर्द किसी को होता है
दूर कहीं कोइ दर्पण टूटे, तड़प के मैं रह जाता हूँ
आप के अनुरोध पे …

तारीफ़ मैं जिसकी करता हूँ, क्या रूप है वो, क्या खुशबू है
कुछ बात नहीं ऐसी कोई, ये एक सुरों का जादू है
कोअल की एक कूक से सबके दिल में हूक़ उठाता हूँ
आप के अनुरोध पे …

मैं पहने फिरता हूँ जो, वो ज़ंजीरें कैसे बनती हैं
ये भेद बता दूँ गीतों में तसवीरें कैसे बनती हैं
सुन्दर होंठों की लाली से, मैं रंग रूप चुराता हूँ
अप के अनुरोध पे मैन ये गीत सुनाता हूँ …

Song Trivia

Pyarelal quoted in an interview “Rajesh Khanna had great interest in music and a terrific sense of melody too. His music is dominated by Pancham (R.D.Burman) and us and we accepted Shakti Samanta’s Anurodh only because Rajesh Khanna had had some misunderstanding with Pancham then and did not want to work with him.”

Official Video

Other Renditions

No video file selected

Avid music lover and Dev Anand fan

Leave a Reply