Qawwalis

Achchha Unhein Dekha Hai (Shankar Hussain)

By  | 



Song Info

Movie/Album: Shankar Hussain

Release: 1977

Featuring Actors: MadhuMalini, Suhail

Music Director: Khayyam

Lyrics: Kaifi Azmi

Singers: Aziz Nazan, Babban Khan

Trivia:

Lyrics in Hindi

अच्छा उन्हें देखा है बीमार हुई आँखें

मुर्झाई सी रहती है घबराई सी रहती हैं

माशूकों की महफ़िल में शर्माई सी रहती हैं

क्या जाने हुआ क्या है पत्थराई सी रहती हैं

अच्छा उन्हें देखा बीमार हुई आँखें

शोखी भी लुटा बैठी मस्ती भी लुटा बैठी

उठती है न झुकती हैं क्या रोग लगा बैठी

अच्छा उन्हें देखा बीमार हुई आँखें

किस तरह हटे दर से वादा है सितमगर से

कहती है लगन दिल की वो चल भी चुके घर से

है फ़ासला दम भर का फिर देख सामा घर का

वो हिलने लगा चिलमन वो पर्दा-ए-दर सरका

लो आ ही गया कोई लो चार हुई आँखें सर्शार हुई आँखें

वो नक़ाब रुख़ से उठाए क्यों

वो बहार-ए-हुस्न लुटाए क्यों

सर-ए-बज़्म जल्वा दिखाए क्यों

तुम्हें अँखियों से पिलाए क्यों

के वो अपने नशे में चूर है

जो नशे में चूर रहे सदा

उसे तेरी हाल का क्या पता

रहा यूँ ही दिल का मुआमला

मगर उसकी कोई नहीं ख़ता

तेरी आँख का ये कसूर है

आँखों पे पड़ा पर्दा लाचार हुई आँखें

अच्छा उन्हें देखा है बीमार हुई आँखें

हमने आज एक ख़्वाब देखा है ख़्वाब भी लाजवाब देखा है

कोई ताबीर इस की बतलाओ रात को आफ़्ताब देखा है

यानी ज़िंदा शराब देखोगे हुस्न को बे-नक़ाब देखोगे

रात को आफ़्ताब देखा है सुबह को माहताब देखोगे

चाँदनी में उठी घटा जैसे

दर-ए-मयख़ाना खुल गया जैसे

ये फ़साना सही हसीं तो है

नशे में रच गई अदा जैसे

कोई तुम सा भी हो ना दीवाना

तुम हक़ीकत को समझे अफ़साना

चाँदनी उस का रंग ज़ुल्फ़ घटा

और आँखें हैं जैसे मैखाना

मयख़ाने में पहुँची तो मयख़्वार हुई आँखें

गुल्नार हुई आँखें …

अच्छा उन्हें देखा है बीमार हुई आँखें

दिल का न कहा माना गद्दार हुई आँखें

अच्छा उन्हें देखा है बीमार हुई आँखें

लाचार हुई आँखें मयख़्वार हुई आँखें

अच्छा उन्हें देखा है बीमार हुई आँखें

Lyrics in English

achchhaa unhe dekhaa hai bimaar hui aankhe

murjhaai si rahati hai ghabaraai si rahati

maashuko ki mahafil me sharmaai si rahati

kyaa jaane huaa kyaa hai pattharaai si rahati hai

achchhaa unhe dekhaa bimaar hui aankhe

shauk bhi lutaa baithi masti bhi ganvaa baithi

uthati hai na jhukati hai kyaa rog lagaa baithi

achchhaa unhe dekhaa bimaar hui aankhe

kis tarah hate dil se vaadaa hai sitamagar se

kahati hai lagan dil ki vo chal bhi chuke ghar se

hai faasalaa dam bhar kaa phir dekh saamaa ghar kaa

vo hilane lagi chilaman vo pardaa ai dar sarakaa

lo aa hi gayaa koi lo chaar hui aankhe sarshaar hui aankhe

vo naqaab ruk se uthaae kyo vo bahaar-e-husn lutaae kyo

sar-e-bazm jalvaa dikhaae kyo tumhe ankhiyo se pilaae kyo

ke vo apane nashe me chur hai jo nashe me chur rahe sadaa

use tere haal kaa kyaa pataa rahaa yahi dil kaa maamalaa

magar usaki koi nahi kataa teri aankh kaa ye kasur

teri aankho pe padaa pardaa laachaar hui aankhe

achchhaa unhe dekhaa hai bimaar hui aankhe

hamane aaj ek kvaab dekhaa hai kvaab bhi laajavaab dekhaa hai

koi taabir usaki batalaao raat kaa aaftaab dekhaa hai

yaani zidaa sharaab dekhoge husn ko be-nakaab dekhoge

raat kaa aaftaab dekhaa hai subah ko aaftaab dekhoge

chaandani me uthi ghataa jaise dar-e-mayakaanaa khul gayaa jaise

mayakaane me pahunchi to mayakvaar hui aankhe

gulnaar hui aankhe 

achchhaa unhe dekhaa hai bimaar hui aankhe

dil kaa na kahaa maanaa gaddaar hui aankhe

achchhaa unhe dekhaa hai bimaar hui aankhe

laachaar hui aankhe mayakvaar hui aankhe

achchhaa unhe dekhaa hai bimaar hui aankhe

Official Video

Other Renditions

No video file selected

Leave a Reply