Romantic

Ae Gulbadan (Professor)

By  | 

Song Info

Movie/Album: Professor

Release: 1962

Music Director: Shankar Jaikishan

Lyrics: Hasrat Jaipuri

Singers: Mohammed Rafi

Lyrics in Hindi

ऐ गुलबदन, ऐ गुलबदन, फूलों की महक काँटों की चुभन
तुझे देख के कहता है मेरा मन
कहीं आज किसी से मुहब्बत ना हो जाए

क्या हसीन मोड़ पर आ गई ज़िंदगानी
की हक़ीक़त न बन जाए मेरी कहानी
जब आहें भरे ये ठंडी पवन
सीने में सुलग उठती है अगन
तुझे देख के …

क्या अजीब रंग में सज रही है ख़ुदाई
की हर इक चीज़ मालिक ने सुंदर बनाई
नदिया का चमकता है दरपन
मुख़ड़ा देखें सपनों की दुल्हन
तुझे देख के …

मैं तुम्हीं से यूँ आँखें मिलाता चला हूँ
कि तुम्हीं को मैं तुमसे चुराता चला हूँ
मत पूछो मेरा दीवानापन
आकाश से ऊँची दिल की उड़न
तुझे देख के …

Lyrics

ae gulabadan, ae gulbadan, phoolon kii mahak kaaton kii chubhan
tujhe dekh ke kehta hai meraa man
kahin aaj kisi se muhabbat naa ho jaaye

kya haseen mod par aa gayi zindagaani
kii haqeeqat na ban jaaye merii kahaanii
jab aahein bhare ye thandi pavan
seene mein sulag uthatii hai agan
tujhe dekh ke …

kya ajeeb rang mein saj rahi hai khudaai
ki har ik cheez maalik ne sundar banaaii
nadiyaa kaa chamakataa hai darapan
mukhada dekhe sapanon kii dulhan
tujhe dekh ke …

main tumhin se yun aankhein milaataa chalaa hun
ki tumhin ko main tumase churaataa chalaa hun
mat poochho meraa deewanapan
aakaash se oonchii dil kii udan
tujhe dekh ke …

Official Video

Other Renditions

No video file selected

Avid music lover and Dev Anand fan

Leave a Reply