Drama

Allah Karam Karna (Dada)

By  | 

Movie: Dada
Release: 1979
Featuring Actors: Vinod Mehra, Bindiya Goswami
Music Directors: Usha Khanna
Lyrics:  Gauhar Kanpuri
Singers:  Suman Kalyanpur
Trivia:

Lyrics in Hindi

हम सबको नेक राह
चलना मेरे अल्लाह
बन्दों को बुराई से
बचाना मेरे अल्लाह
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना

एक वाकया सुनाती हूँ
मैं अपनी ज़ुबानी
अपने बड़ों से मैंने
सुनी है ये कहानी
रहता था किसी शहर
में एक ऐसा भी इंसान
जो नाम का मुस्लिम था
मगर काम का शैतान

ज़ालिम को ज़ोर इ बाज़ू
पे अपने गुरुर था
यानि के बेख़ुदी में
खुदा से वो दूर था
सब लोग उसे कहते थे
जल्लाद सितमगर
मासूम की फ़रियाद
का उस पे न था असर
जो वादा उस ने कर लिया
वो कर के दिखाया
पैसों के लिए क़त्ल
किये खून बहाया
इक दिन वो बहता खून
असर उस पे कर गया
इंसान ज़िंदा हो गया
शैतान मर गया
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना

ईमान जिसे कहते हैं
फरमान ए खुदा है
कुरान के हर लफ्ज़
में उस की ही सादा है
अल्लाह ने बख्शी है
जो ईमान की दौलत
ये सब से बड़ी चीज़
है इंसान की दौलत
सोए हुए दिलों को
जगाता है ये ईमान
भटके हुओं को राह
दिखाता है ये ईमान
ईमान की गर्मी से
पिघल जाते हैं पत्थर
इस नूर से बनते हैं
संवारते हैं मुक़द्दर
जो सब से प्यार करता
है इंसान वही है
मुस्लिम है वोही
साहिब ए ईमान वही है
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना

जिस काम के करने पे
न हो राज़ी कोई दिल
वो काम भी इस दुनिया
में नफरत के ही काबिल
जो कुछ भी जुबां
कह दे वो इक़रार नहीं है
लग़ज़िश है लबों की
वो गुनहगार नहीं है
जो दिल से नहीं करता
बुराई का इरादा
अल्लाह से वो तौबा
करे तोड़ दे वादा
जल्दी जो संभल जाए
वो नादान नहीं है
ईमान जिस में हो
वो बेईमान नहीं है
दुनिया में हमेशा
तो नहीं रहता अन्धेरा
इंसान जहां जागे
वहीँ पे है सवेरा
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना

जो सच्चे दिल से करता
है ईमान की आरज़ू
अल्लाह की नज़रों में
वो होता है सुर्ख रूह
ईमान में क्या क्या
न सहा प्यारे नबी ने
क्या ऐसी मुसीबत भी
उठायी है किसी ने
कर्बल के शहीदों ने
सबक हम को पढ़ाया
सजदे में दे के जान
को ईमान बचाया
इस राह में जो सेह्ते
हैं तक़लीफ़ ो मुसिबत
इक रोज़ उन पे होती
है अल्लाह की रहमत
इंसान है वो जो दूसरों
का दिल न दुखाए
पड़ जाए अगर जान
पे तो जान लुटाएं
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना
अल्लाह करम करना
मौला तू रहम करना.


Lyrics in English

Hum sabko nek raah
Chalana mere allaah
Bandon ko buraai se
Bachana mere allaah
Allaah karam karna
Maula tu reham karna
Allaah karam karna
Maula tu reham karna

Ik vaakayaa sunaati hun
Main apni zubaani
Apne badon se maine
Suni hai ye kahaani
Rehtaa thaa kisi shehar
Mein ek aisa bhi insaan
Jo naam ka muslim tha
Magar kaam ka shaitaan

Zaalim ko zor e baazu
Pe apne gurur thaa
Yaani ke bekhudi mein
Khuda se wo dur thaa
Sab log use kehte thhe
Jallaad sitamgar
Maasum ki fariyaad
Ka us pe na tha asar
Jo waadaa us ne kar liyaa
Wo kar ke dikhaayaa
Paison ke liye qatl
Kiye khun bahaya
Ik din wo behtaa khun
Asar us pe kar gayaa
Insaan zindaa ho gayaa
Shaitaan mar gayaa
Allaah karam karna
Maula tu reham karna
Allaah karam karna
Maula tu reham karna

Imaan jise kehte hain
Farmaan e khuda hai
Quraan ke har lafz
Mein us ki hi sadaa hai
Allaah ne bakshi hai
Jo imaan ki daulat
Ye sab se badi chiz
Hai insaan ki daulat
Soye huye dilon ko
Jagata hai ye imaan
Bhatke huyon ko raah
Dikhaataa hai ye imaan
Imaan ki garmi se
Pighal jaate hain patthar
Is nur se bante hain
Sanwarte hain muqaddar
Jo sab se pyaar karta
Hai insaan wohi hai
Muslim hai wohi
Saahib e imaan wohi hai
Allaah karam karna
Maula tu reham karna
Allaah karam karna
Maula tu reham karna

Jis kaam ke karne pe
Na ho raazi koi dil
Wo kaam bhi is duniya
Mein nafrat ke hai kaabil
Jo kuchh bhi zubaan
Keh de wo iqraar nahin hai
Laghzish hai labon ki
Wo gunehgaar nahin hai
Jo dil se nahin karta
Buraai ka iraadaa
Allaah se wo taubaa
Kare tod de waadaa
Jaldi jo sambhal jaaye
Wo nadaan nahin hai
Imaan jis mein ho
Wo beimaan nahin hai
Duniya mein hameshaa
To nahin rehtaa andheraa
Insaan jahaan jaage
Wahin pe hai saveraa
Allaah karam karna
Maula tu reham karna
Allaah karam karna
Maula tu reham karna

Jo sacche dil se karta
Hai imaan ki aarzu
Allaah ki nazaron mein
Wo hotaa hai surkh ruh
Imaan mein kya kya
Na sahaa pyaare nabi ne
Kya aisi musibat bhi
Utthaayi hai kisi ne
Karbal ke shahidon ne
Sabak hum ko padhaayaa
Sajde mein de ke jaan
Ko imaan bachaayaa
Iss raah mein jo sehte
Hain taqlif o musibat
Ik roz un pe hoti
Hai allaah ki rehmat
Insaan hai wo jo dusron
Ka dil na dukhaaye
Pad jaaye agar jaan
Pe to jaan lutaaye
Allaah karam karna
Maula tu reham karna
Allaah karam karna
Maula tu reham karna.

Leave a Reply