Drama

Ankho Ke Jaam Layi Hu (Fauladi Mukka)

By  | 

Movie: Fauladi Mukka
Release: 1965
Featuring Actors: Indira, Kammo, Sherry, Murad, Birjoo
Music Director: Iqbal
Lyrics: Saba Fazli
Singer:  nA
Trivia:

Lyrics in Hindi

आँखों के जाम लायी हूँ
दिल का पैगाम लाई हु
मौसम हसीं है तू दिलनशी है
बनके बहार आयी हु
आँखों के जाम लायी हूँ
दिल का पैगाम लाई हु
मौसम हसीं है तू दिलनशी है
बनके बहार आयी हु
आँखों का जैम लायी हूँ

आँखों की मस्तीओं में
इक बार फिर से खो जाओ
अपना बनाओ किसी को
न तू किसी का होजा
आँखों की मस्तीओं में
इक बार फिर से खो जाओ
अपना बनाओ किसी को
न तू किसी का होजा
आँखों के जाम लायी हूँ
दिल का पैगाम लाई हु
मौसम हसीं है तू दिलनशी है
बनके बहार आयी हु
आँखों का जैम लायी हूँ

कल का है क्या भरोषा
कल आये न आये
ये जिंदगी उसी की
गम में जो मुस्कुराये
कल का है क्या भरोषा
कल आये न आये
ये जिंदगी उसी की
गम में जो मुस्कुराये
आँखों के जाम लायी हूँ
दिल का पैगाम लाई हु
मौसम हसीं है तू दिलनशी है
बनके बहार आयी हु
आँखों का जैम लायी हूँ

सागर भरे हुए है
और रात ढल रही है
सरगम बेखबर है
और शमा जल रही है

सागर भरे हुए है
और रात ढल रही है
सरगम बेखबर है
और शमा जल रही है
आँखों के जाम लायी हूँ
दिल का पैगाम लाई हु
मौसम हसीं है तू दिलनशी है
बनके बहार आयी हु
आँखों का जैम लायी हूँ.


Lyrics in English

Aankho ke jam layi hu
Dil ka paygam layi hu
Mausam hasi hai tu dilnashi hai
Banke bahar aayi hu
Aankho ke jam layi hu
Dil ka paygam layi hu
Mausam hasi hai tu dilnashi hai
Banke bahar aayi hu
Aankho ka jam layi hu

Aankho ki mastio me
Ik bar phir se kho jao
Apna banao kisi ko
Na tu kisi ka hoja
Aankho ki mastio me
Ik bar phir se kho jao
Apna banao kisi ko
Na tu kisi ka hoja
Aankho ke jam layi hu
Dil ka paygam layi hu
Mausam hasi hai tu dilnashi hai
Banke bahar aayi hu
Aankho ka jam layi hu

Kal ka hai kya bharosha
Kal aaye na aaye
Ye jindagi usi ki
Gum me jo muskuraye
Kal ka hai kya bharosha
Kal aaye na aaye
Ye jindagi usi ki
Gum me jo muskuraye
Aankho ke jam layi hu
Dil ka paygam layi hu
Mausam hasi hai tu dilnashi hai
Banke bahar aayi hu
Aankho ka jam layi hu

Sagar bhare hue hai
Aur rat dhal rahi hai
Sargum bekhabar hai
Aur shama jal rahi hai

Sagar bhare hue hai
Aur rat dhal rahi hai
Sargum bekhabar hai
Aur shama jal rahi hai
Aankho ke jam layi hu
Dil ka paygam layi hu
Mausam hasi hai tu dilnashi hai
Banke bahar aayi hu
Aankho ka jam layi hu.

Leave a Reply