Drama

Apane Honthon Ki Bansi (Gambler)

By  | 

Movie: Gambler
Release: 1971
Featuring Actors: Dev Anand, Zahira, Shatrughan Sinha, Zahida
Music Director: Sachin Dev Burman
Lyrics: Neeraj
Singer:  Kishore Kumar, Lata Mangeshkar
Trivia:

Lyrics in Hindi

अपने होठों की
अपने होठों की
बसी बनाले मुझे
मेरी साँसों में
तेरी साँस घुल जाए

आरज़ू तो हमारी
भी है ये मगर
डर है मौसम
कही न बदल जाए
अपने होठों की
बसी बनाले मुझे
मेरी साँसों में
तेरी साँस घुल जाए

देखा तुझे
ये कैसा नशा
चली ये कैसी हवा
भूले हम घर
का पता
देखा तुझे
ये कैसा नशा
चली ये कैसी हवा
भूले हम घर
का पता
अब तो नहीं हमसे
होना जुड़ा
अपनी बाहों का
घूँघट ुधा दे मुझे
प्यार की ये न
डोली निकल जाए
आरज़ू तो हमारी
भी है ये मगर
डर है मौसम
कही न बदल जाए

ये तो बता
रखूं ये कमल
ज़िंदगानी है मेरी
रेट का एक महल
ये तो बता
रखूं ये कमल
ज़िंदगानी है मेरी
रेट का एक महल
याद जैसे हो कोई अति ग़ज़ल
अपनी रातो का
दीपक बनाले मुझे
ये सुलगती हुई
शाम जल जाए
अपने होठों की
बसी बनाले मुझे
मेरी साँसों में
तेरी साँस घुल जाए

पास तो आ
ये दिन मर जाने का है
ये दिन कुछ
खो ने का है
ये दिन कुछ
पाने का है हूँ
पास तो आ
ये दिन मर जाने का है
ये दिन कुछ
खो ने का है
ये दिन कुछ
पाने का है
मौसम ये रूठने
मनाने का है
अपने दामन की
खुसबू बनाले मुझे
दिल के सुने में
कोई फूल खिल जाए

आरज़ू तो हमारी
भी है ये मगर
डर है मौसम
कही न बदल जाए
अपने होठों की
बसी बनाले मुझे
मेरी साँसों में
तेरी साँस घुल जाए.


Lyrics in English

Apane hotho ki
Apane hotho ki
Basi banaale mujhe
Meri saanso me
Teri saans ghool jaae

Aarazu to hamaari
Bhi hai ye magar
Darr hai mausam
Kahi na badal jaae
Apane hotho ki
Basi banaale mujhe
Meri saanso me
Teri saans ghool jaae

Dekhaa tujhe, chadhaa
Ye kaisaa nashaa
Chali ye kaisi havaa
Bhoole ham ghar
Ka pataa, ho ho
Dekhaa tujhe, chadhaa
Ye kaisaa nashaa
Chali ye kaisi havaa
Bhoole ham ghar
Ka pataa
Ab to nahi hamase
Honaa judaa
Apani baaho ka
Ghunghat udhaa de mujhe
Pyaar ki ye na
Doli nikal jaae
Aarazu to hamaari
Bhi hai ye magar
Darr hai mausam
Kahi na badal jaae

Ye to bataa, kahaa
Rakhun ye kamal
Zidagaani hai meri
Ret ka ek mahal, ho ho
Ye to bataa, kahaa
Rakhun ye kamal
Zidagaani hai meri
Ret ka ek mahal
Yaad jaise ho koi ati gazal
Apani rato ka
Dipak banaale mujhe
Ye sulagati hui
Shaam jal jaae
Apane hotho ki
Basi banaale mujhe
Meri saanso me
Teri saans ghool jaae

Paas to aa
Ye din mar jaane ka hai
Ye din kuch
Kho ne kaa hai
Ye din kuch
Paane kaa hai hoo
Paas to aa
Ye din mar jaane ka hai
Ye din kuch
Kho ne kaa hai
Ye din kuch
Paane kaa hai
Mausam ye roothne
Manaane ka hai
Apne daaman ki
Khusboo banaale mujhe
Dil ke sune me
Koi phool khil jaaye

Aarazu to hamaari
Bhi hai ye magar
Darr hai mausam
Kahi na badal jaae
Apane hotho ki
Basi banaale mujhe
Meri saanso me
Teri saans ghool jaae.

Leave a Reply