Drama

Apna Desh Videsh (Anokha)

By  | 

Movie: Anokha
Release: 1975
Featuring Actors: Shatrughan Sinha
Music Directors: Kalyanji Anandji
Lyrics: Indeevar
Singers: Mukesh
Trivia:

Lyrics in Hindi

अपना देश विदेश के
आगे हाथ न फैलाए
अपना देश विदेश के
आगे हाथ न फैलाए
आज जहाँ है रेट कल
वहां खेत मुस्कराये
आज जहाँ है रेट कल
वहां खेत मुस्कराये
ऐसा करो ऐसा करो
गाँव गाँव में गंगा लेहरायए
ऐसा करो ऐसा करो
गाँव गाँव में गंगा लेहरायए
अपना देश विदेश के
आगे हाथ न फैलाए
कभी भी हाथ न फैलाए

म्हणत का ही नाम है वो
जिसको किस्मत कहते है
जिसको किस्मत कहते है
दो हाथो का खेल है वो
जिसको दौलत कहते है
जिसको दौलत कहते है
हम जहाँ पसीना बहाएंगे
मोती वहां उगाएंगे
मोती वहां उगाएंगे
नदिया बँधे नहर निकाली
नहर निकाली
हो नदिया बँधे नहर निकाली
खुशहाली छाये
ऐसा करो ऐसा करो
गाँव गाँव में गंगा लेहरायए
अपना देश विदेश के
आगे हाथ न फैलाए
कभी भी हाथ न फैलाए

देश की हर एक चीज़ है अपनी
अपने हाथों क्यों तोड़े
अब अपने हाथों क्यों तोड़े
इसको बछना फ़र्ज़ है अपना
क्यों सर्कार पर छोड़े
अब सर्कार पर छोड़े
अपना भारत सारा
हमे प्रान्त प्रान्त है प्यारा
हमे प्रान्त प्रान्त है प्यारा
आपस के ही इन दंगो में
इन दंगो में
आपस के ही इन दंगो में
देश न जल जाए
ऐसा करो ऐसा करो
गाँव गाँव में गंगा लेहरायए
अपना देश विदेश के
आगे हाथ न फैलाए
कभी भी हाथ न फैलाए
आज जहाँ है रेट कल
वहां खेत मुस्कराये
कल वहां खेत मुस्कराये.


Lyrics in English

Apna desh videsh ke
Aage hath na phailaye
Apna desh videsh ke
Aage hath na phailaye
Aaj jahan hai ret kal
Wahan khet muskaraye
Aaj jahan hai ret kal
Wahan khet muskaraye
Aisa karo aisa karo
Gav gav mein ganga lehraye
Aisa karo aisa karo
Gav gav mein ganga lehraye
Apna desh videsh ke
Aage hath na phailaye
Kabhi bhi hath na phailaye

Mehnat ka hi naam hai wo
Jisko kismat kehte hai
Jisko kismat kehte hai
Do hatho ka khel hai wo
Jisko daulat kehte hai
Jisko daulat kehte hai
Hum jahan pasina bahayenge
Moti wahan ugayenge
Moti wahan ugayenge
Nadiya bandhe nahar nikale
Nahar nikale
Ho nadiya bandhe nahar nikale
Kushahali chhaye
Aisa karo aisa karo
Gav gav mein ganga lehraye
Apna desh videsh ke
Aage hath na phailaye
Kabhi bhi hath na phailaye

Desh ki har ek chiz hai apani
Apne hatho kyu tode
Ab apne hatho kyu tode
Isko bachhana farz hai apna
Kyu sarkar par chhode
Ab sarkar par chhode
Apna bharat sara
Hume prant prant hai pyara
Hume prant prant hai pyara
Aapas ke hi in dango mein
In dango mein
Aapas ke hi in dango mein
Desh na jal jaaye
Aisa karo aisa karo
Gav gav mein ganga lehraye
Apna desh videsh ke
Aage hath na phailaye
Kabhi bhi hath na phailaye
Aaj jahan hai ret kal
Wahan khet muskaraye
Kal wahan khet muskaraye.

Leave a Reply