Drama

Apna Gaon Sambhalo (Gaon Hamara Shaher Tumhara)

By  | 

Movie: Gaon Hamara Shaher Tumhara
Release: 1972
Featuring Actors: Rajendra Kumar, Rekha, Sujit Kumar
Music Director: Laxmikant Pyarelal
Lyrics: Rajendra Krishan
Singer:  Mohammed Rafi
Trivia:

Lyrics in Hindi

नयी हवा में उड़ने देखो
वन का मोर् चला
अपना गाओं सम्भालो
मई तो सहर की और चला
अपना गाओं सम्भालो
मई तो सहर की और चला

नयी हवा में उड़ने देखो
वन का मोर् चला
अपना गाओं सम्भालो
मई तो सहर की और चला
अपना गाओं सम्भालो
मई तो सहर की और चला

सुनते है सहर मैं
जब जब सावन भादो आता है
सुनते है सहर मैं
जब जब सावन भादो आता है
पानी की बूंदों के बदले हरे नोट बरसाता है
भर लेता है झोळी जिसका जितना जोर चला
अपना गाओं सम्भालो
मई तो सहर की और चला
अपना गाओं सम्भालो
मई तो सहर की और चला

ये भी सुना ही रात वह कई दिन को सरमाती है
ये भी सुना ही रात वह कई दिन को सरमाती है
दीवारों को हाथ लगाओ तो बत्ती जल जाती है
अपने घर तो दिया कभी साडी रात जला
अपना गाओं सम्भालो
मई तो सहर की और चला
अपना गाओं सम्भालो
मई तो सहर की और चला

ये धरती आकाश
वह भी होगा या न होगा
ये धरती आकाश
वह भी होगा या न होगा
देखा जायेगा किस्मत में
जो भी लिखा होगा
निकल पड़े जब घर से
क्यों न करेगा राम भला
अपना गाओं सम्भालो
मई तो सहर की और चला
अपना गाओं सम्भालो
मई तो सहर की और चला.


Lyrics in English

Nayi hawa me udane dekho
Van ka mor chala
Apna gaon sambhalo
Mai to sahar ki aur chala
Apna gaon sambhalo
Mai to sahar ki aur chala

Nayi hawa me udane dekho
Van ka mor chala
Apna gaon sambhalo
Mai to sahar ki aur chala
Apna gaon sambhalo
Mai to sahar ki aur chala

Sunte hai sahar main
Jab jab sawan bhado aata hai
Sunte hai sahar main
Jab jab sawan bhado aata hai
Paani ki bundo ke badale hare note barsata hai
Bhar leta hai jholi jiska jitana jor chala
Apna gaon sambhalo
Mai to sahar ki aur chala
Apna gaon sambhalo
Mai to sahar ki aur chala

Ye bhi suna hi raat waha ki din ko sarmati hai
Ye bhi suna hi raat waha ki din ko sarmati hai
Diwaaro ko haath lagao to batti jal jaati hai
Apnae ghar to diya kabhi sari raat jala
Apna gaon sambhalo
Mai to sahar ki aur chala
Apna gaon sambhalo
Mai to sahar ki aur chala

Ye dharti aakash
Vaha bhi hoga ya na hoga
Ye dharti aakash
Vaha bhi hoga ya na hoga
Dekha jayega kismat me
Jo bhi likha hoga
Nikal pade jab ghar se
Kyu na karega ram bhala
Apna gaon sambhalo
Mai to sahar ki aur chala
Apna gaon sambhalo
Mai to sahar ki aur chala.

Leave a Reply