Drama

Bagon Mein Baharon Mein (Chhoti Bahen)

By  | 

Movie: Chhoti Bahen
Release: 1959
Featuring Actors: Balraj Sahni, Rehman
Music Directors: Shankar Jaikishan
Lyrics: Shailendra
Singers:  Lata Mangeshkar
Trivia:

Lyrics in Hindi

बागों में बहारों में
इठलाता गाता आया कोई
नाजुक नाजुक कलियों के दिल को
धड़कता आया कोई
आया कोई आया कोई आया कोई
बागों में बहारों में
इठलाता गाता आया कोई
नाजुक नाजुक कलियों के दिल को
धड़कता आया कोई

भीनी हवा ऊँची घटा कहे
तेरे आँगन में बरसेगा प्यार
फूलो के हर लेके बहार
करने को आई मेरे सोलह सिंगार
रंगो की उमंगो की गागर
चालकता आया कोई
आया कोई आया कोई आया कोई
बागों में बहारों में
इठलाता गाता आया कोई
नाजुक नाजुक कलियों के दिल को
धड़कता आया कोई

सपनो के जल रंगी ख्याल
दिल के हिचकौले कहे ाह्के न खोल
दिल की ये बात दिल का ये राज
जाने न जाने कोई तू कुछ न बोल
आन्ह्को से इसरो से सब कुछ
समझाता आया कोई
आया कोई आया कोई आया कोई
बागों में बहारों में
इठलाता गाता आया कोई
नाजुक नाजुक कलियों के दिल को
धड़कता आया कोई

छाया है या रिम झिम धरा
फिर भी है मेरे दिल को उतना ही गम
सखियों से दूर अपनों से दूर
किसे है खबर कल कहा होंगे हम
उलझन की दीवारों से दिल को
टकराता आया कोई
आया कोई आया कोई आया कोई
बागों में बहारों में
इठलाता गाता आया कोई
नाजुक नाजुक कलियों के दिल को
धड़कता आया कोई.


Lyrics in English

Bagon mein baharon mein
Ithlata gata aaya koi
Najuk najuk kaliyo ke dil ko
Dhadkata aaya koi
Aaya koi aaya koi aaya koi
Bagon mein baharon mein
Ithlata gata aaya koi
Najuk najuk kaliyo ke dil ko
Dhadkata aaya koi

Bhini hawa unchi ghata kahe
Tere angan mein barsega pyar
Phulo ke har leke bahar
Karne ko aayi mere solah singar
Rango ki umango ki gagar
Chalkata aaya koi
Aaya koi aaya koi aaya koi
Bagon mein baharon mein
Ithlata gata aaya koi
Najuk najuk kaliyo ke dil ko
Dhadkata aaya koi

Sapno ke jal rangi khyal
Dil ke hichkole kahe aanhke na khol
Dil ki ye bat dil ka ye raz
Jane na jane koi tu kuch na bol
Aanhko se isaro se sab kuchh
Samjhata aaya koi
Aaya koi aaya koi aaya koi
Bagon mein baharon mein
Ithlata gata aaya koi
Najuk najuk kaliyo ke dil ko
Dhadkata aaya koi

Chhaya hai ya rim jhim dhara
Fir bhi hai mere dil ko utna hi gum
Sakhiyo se dur apno se dur
Kise hai khbar kal kaha honge hum
Uljhan ki diwaro se dil ko
Takrata aaya koi
Aaya koi aaya koi aaya koi
Bagon mein baharon mein
Ithlata gata aaya koi
Najuk najuk kaliyo ke dil ko
Dhadkata aaya koi.

Leave a Reply