Drama

Bahut Door Abhi Jaana Hain (Ek Daku Saher Mein)

By  | 

Movie: Ek Daku Saher Mein
Release: 1985
Featuring Actors: Suresh Oberoi, Sarika, Amjad Khan
Music Director: Rajesh Roshan
Lyrics: Chander Oberoi, Rajesh Roshan, Majrooh Sultanpuri
Singer: Alka Yagnik, Kishore Kumar
Trivia:

Lyrics in Hindi

हमनशी आगे बहुत दूर अभी जाना हैं
इश्क़ के नूर से इन राहों को चमकाना हैं
हर जारो को कुचलते हुए इन कदमों से
लाख पुरुषों और हवाओं से गुजर जाना हैं
हमनशी आगे बहुत दूर अभी जाना हैं
इश्क़ के नूर से इन राहों को चमकाना हैं
हर जारो को कुचलते हुए इन कदमों से
लाख पुरुषों और हवाओं से गुजर जाना हैं
हमनशी आगे

इश्क़ नहीं कुछ धरती की सैय
इश्क़ हैं अल्लाह का परमा
इश्क़ तो जिस्म में छुपी हुई रूह
इश्क़ में इलाही की है शान
इश्क़ नहीं कुछ धरती की सैय
इश्क़ हैं अल्लाह का परमा
इश्क़ तो जिस्म में छुपी हुई रूह
इश्क़ में इलाही की है शान

बस में नहीं हैं दिल का आना
खेल नहीं हैं इश्क़ की लग
मीठी मीठी जलं जो देदे
इश्क़ वो दहकती आग
बस में नहीं हैं दिल का आना
खेल नहीं हैं इश्क़ की लग
मीठी मीठी जलं जो देदे
इश्क़ वो दहकती आग
हमनशी आगे बहुत दूर अभी जाना हैं
इश्क़ के नूर से इन राहों को चमकाना हैं
हर जारो को कुचलते हुए इन कदमों से
लाख पुरुषों और हवाओं से गुजर जाना हैं
हमनशी आगे

सच ही हैं के इश्क़ हैं अँधा
इसका तीर अगर लग जाये
जहर ये भरदे हर रग रग में
जीवन भर फिर ये तड़पाये
होश खोया मैंने तो
एक होश भी हैं प् लिया
मैंने दिल में तेरी ही
तस्वीर को सजा लिया
दिल जवा हैं रुत जवा हैः
हर तमन्ना भी जावा
मैंने बहो में
एक हसीं चाँद छुपा लिया
होश खोया मैंने तो
एक होश भी हैं प् लिया
मैंने दिल में तेरी ही
तस्वीर को सजा लिया
दिल जवा हैं रुत जवा हैं
हर तमन्ना भी जावा
पलकों की चिलमन में चाँद छुपा लिया

हमनशी आगे बहुत दूर अभी जाना हैं
इश्क़ के नूर से इन राहों को चमकाना हैं
हर जारो को कुचलते हुए इन कदमों से
लाख पुरुषों और हवाओं से गुजर जाना हैं
हमनशी आगे.


Lyrics in English

Humnashi aage bahut door abhi jana hain
Ishq ke noor se in raho ko chamkana hain
Har jaro ko kuchalte hue in kadmo se
Lakh purusho aur hawao se gujar jana hain
Humnashi aage bahut door abhi jana hain
Ishq ke noor se in raho ko chamkana hain
Har jaro ko kuchalte hue in kadmo se
Lakh purusho aur hawao se gujar jana hain
Humnashi aage

Ishq nahi kuch dharti ki say
Ishq hain allah ka parma
Ishq to jism mein chupi hui ruh
Ishq mein ilahi ki hai shan
Ishq nahi kuch dharti ki say
Ishq hain allah ka parma
Ishq to jism mein chupi hui ruh
Ishq mein ilahi ki hai shan

Bas mein nahi hain dil ka aana
Khel nahi hain ishq ki lag
Mithi mithi jalan jo dede
Ishq wo dahakti aag
Bas mein nahi hain dil ka aana
Khel nahi hain ishq ki lag
Mithi mithi jalan jo dede
Ishq wo dahakti aag
Humnashi aage bahut door abhi jana hain
Ishq ke noor se in raho ko chamkana hain
Har jaro ko kuchalte hue in kadmo se
Lakh purusho or hawao se gujar jana hain
Humnashi aage

Sach hi hain ke ishq hainn andha
Iska teer agar lag jaye
Jahar ye bharde har rag rag mein
Jiwan bhar phir ye tadpaye
Hosh khoya maine to
Ek hosh bhi hain pa liya
Maine dil mein teri hi
Taswir ko saja liya
Dil jawa hain rut jawa haih
Har tamanna bhi jawa
Maine baho mein
Ek hasin chand chupa liya
Hosh khoya maine to
Ek hosh bhi hain pa liya
Maine dil mein teri hi
Taswir ko saja liya
Dil jawa hain rut jawa hain
Har tamanna bhi jawa
Palko ki chilman mein chand chupa liya

Humnashi aage bahut door abhi jana hain
Ishq ke noor se in raho ko chamkana hain
Har jaro ko kuchalte hue in kadmo se
Lakh purusho or hawao se gujar jana hain
Humnashi aage.

Leave a Reply