Drama

Bhari Duniya Mein Akhir Dil (Do Badan)

By  | 

Movie: Do Badan
Release: 1966
Featuring Actors: Manoj Kumar, Asha Parekh
Music Director: Ravi
Lyrics: Shakeel Badayuni
Singers:  Mohammed Rafi
Trivia:

Lyrics in Hindi

भरी दुनिया में आखिर दिल को
समझाने कहा जाए
भरी दुनिया में आखिर दिल को
समझाने कहा जाए
मोहब्बत हो गई जिन को
वह दीवाने कहा जाए
भरी दुनिया में आखिर दिल को
समझाने कहा जाए
भरी दुनिया

लगे हैं शम्मा पर
पहरे ज़माने की निगाहों के
लगे हैं शम्मा पर
पहरे ज़माने की निगाहों के
ज़माने की निगाहों के
जिन्हें जलने की हसरत है
जिन्हें जलने की हसरत है
वो परवाने कहा जाए
मोहब्बत हो गई जिन को
वो दीवाने कहा जाए
भरी दुनिया में आखिर दिल को
समझाने कहा जाए
भरी दुनिया

सुनाना भी जिन्हें मुश्किल
छुपाना भी जिन्हें मुश्किल
सुनाना भी जिन्हें मुश्किल
छुपाना भी जिन्हें मुश्किल
छुपाना भी जिन्हें मुश्किल
ज़रा तू ही बता ऐ दिल
ज़रा तू ही बता ऐ दिल वह
अफ़साने कहा जाए
मोहब्बत हो गई जिन को वह
दीवाने कहा जाए
भरी दुनिया में आखिर दिल को
समझाने कहा जाए
भरी दुनिया

नज़र में उलझाने दिल में
है आलम बेक़रारी का
नज़र में उलझाने दिल में
है आलम बेक़रारी का
है आलम बेक़रारी का
समझ में कुछ नहीं आता
समझ में कुछ नहीं आता
वो तूफान कहा जाएँ
मोहब्बत हो गई जिन को वह
दीवाने कहा जाएं
भरी दुनिया में आखिर दिल को
समझाने कहा जाए
भरी दुनिया.


Lyrics in English

Bhari duniya mein aakhir dil ko
Samajhhaane kaha jaaye
Bhari duniya mein aakhir dil ko
Samajhhaane kaha jaaye
Mohabbat ho gai jin ko
Woh deewane kaha jaaye
Bhari duniya mein aakhir dil ko
Samajhhaane kaha jaaye
Bhari duniya

Lage hain shammaa par
Pahare zamaane ki nigaahon ke
Lage hain shammaa par
Pahare zamaane ki nigaahon ke
Zamaane ki nigaahon ke
Jinhen jalane ki hasarat hai
Jinhen jalane ki hasarat hai
Wo paravaane kaha jaaye
Mohabbat ho gai jin ko
Wo divaane kaha jaaye
Bhari duniya mein aakhir dil ko
Samajhhaane kaha jaaye
Bhari duniya

Sunaana bhi jinhen mushkil
Chhupaana bhi jinhen mushkil
Sunaana bhi jinhen mushkil
Chhupaana bhi jinhen mushkil
Chhupaana bhi jinhen mushkil
Zara tu hi bata ai dil
Zara tu hi bata ai dil woh
Afasaane kaha jaaye
Mohabbat ho gai jin ko woh
Deewane kaha jaaye
Bhari duniya mein aakhir dil ko
Samajhhaane kaha jaaye
Bhari duniya

Nazar mein uljane dil mein
Hai aalam beqaraari ka
Nazar mein uljane dil mein
Hai aalam beqaraari ka
Hai aalam beqaraari ka
Samajh mein kuchh nahin aata
Samajh mein kuchh nahin aata
Wo tufaane kaha jayen
Mohabbat ho gai jin ko woh
Deewane kaha jaaen
Bhari duniya mein aakhir dil ko
Samajhhaane kaha jaaye
Bhari duniya.

Leave a Reply