Drama

Chalte Chalte In Raaho Pe (Atmaram)

By  | 

Movie: Atmaram
Release:  1979
Featuring Actors: Shatrughan Sinha, Vidya Sinha, Bindiya Goswami,
Music Directors: Shankar Jaikishan
Lyrics: Dr. Prabha Thakur.
Singers: Kishore Kumar
Trivia:

Lyrics in Hindi

चलते चलते इन राहों पर
ऐसा भी कुछ हो जाता है
कोई अनचाहा मिल जाता है
और मन चाहा खो जाता है

चलते चलते इन राहों पर
ऐसा भी कुछ हो जाता है
कोई अनचाहा मिल जाता है
और मन चाहा खो जाता है

कोई ख़ुशी अलग से
हो सकी न हासिल
किसी और की ख़ुशी में
हम हो गए है सामील

कोई ख़ुशी अलग से
हो सकी न हासिल
किसी और की ख़ुशी में
हम हो गए है सामील

ऐसे भी हँस लेते है हम
ऐसे में जी खिल जाता है
कोई अनचाहा मिल जाता है
और मन चाहा खो जाता है

ये जिंदगी भी कैसी
फूलो का सिलसिला है
मजबूरियों से हारा
हर एक हौसला है

ये जिंदगी भी कैसी
फूलो का सिलसिला है
मजबूरियों से हारा
हर एक हौसला है

कोई देख में जी लेता है
कोई सुख में मर जाता है
कोई अनचाहा मिल जाता है
और मन चाहा खो जाता है

किस्मत ने जो लिखा था
पाया है जिंदगी ने
क्यों ढूँढ़ने ये खुदाए
हम दोष आदमी में

किस्मत ने जो लिखा था
पाया है जिंदगी ने
क्यों ढूँढ़ने ये खुदाए
हम दोष आदमी में

क्या सोचा करता है इंसान
और जाने क्या हो जाता है
कोई अनचाहा मिल जाता है
और मन चाहा खो जाता है.


Lyrics in English

Chalte chalte in raho par
Aisa bhi kuch ho jata hai
Koi anchaha mil jata hai
Aur man chaha kho jata hai

Chalte chalte in raho par
Aisa bhi kuch ho jata hai
Koi anchaha mil jata hai
Aur man chaha kho jata hai

Koi khushi alag se
Ho saki na hasil
Kisi aur ki khushi me
Hum ho gaye hai samil

Koi khushi alag se
Ho saki na hasil
Kisi aur ki khushi me
Hum ho gaye hai samil

Aise bhi hans lete hai hum
Aise me jee khil jata hai
Koi anchaha mil jata hai
Aur man chaha kho jata hai

Ye jindagi bhi kaisi
Phulo ka silsila hai
Majburiyo se haara
Har ek hausla hai

Ye jindagi bhi kaisi
Phulo ka silsila hai
Majburiyo se haara
Har ek hausla hai

Koi dekh me jee leta hai
Koi sukh me mar jata hai
Koi anchaha mil jata hai
Aur man chaha kho jata hai

Kismat ne jo likha tha
Paya hai jindagi ne
Kyo dhundhne ye khudaye
Hum dosh aadmi me

Kismat ne jo likha tha
Paya hai jindagi ne
Kyo dhundhne ye khudaye
Hum dosh aadmi me

Kya socha karta hai insan
Aur jane kya ho jata hai
Koi anchaha mil jata hai
Aur man chaha kho jata hai.

Leave a Reply