Drama

Chand Ki Sundar Nagri Mein (Dholak)

By  | 

Movie: Dholak
Release: 1951
Featuring Actors: Ajit, Amir Banu
Music Directors: Shyam Sunder
Lyrics: Aziz Kashmiri
Singers: Uma Devi Khatri, Mohammed Rafi
Trivia:

Lyrics in Hindi

चाँद की सुन्दर नगरी में
परियों की
परियों की रानी रहती थी
परियों की
परियों की रानी रहती थी
चाँद की सुन्दर नगरी में
परियों की
परियों की रानी रहती थी
परियों की
परियों की रानी रहती थी
चाँद की सुन्दर नगरी में

तारों की सुन्दर थाली में
गीतों की मीठी बोली में
वो प्रेम कहानी कहती थी
परियों की
परियों की रानी रहती थी
चाँद की सुन्दर नगरी में
आए आए
फूल खिले थे उस नगरी में
काली काली लहराती थी
मुस्काती थी सारी बगिया
रानी जब मुस्काती थी
परियों की
परियों की रानी रहती थी
परियों की
परियों की रानी रहती थी
चाँद की सुन्दर नगरी में

इक दिन इक शहज़ादे ने
कुछ देखा ऐसा सपना
सपने में रानी को देखा
खो बैठा दिल अपना
आए आए
उड़कर पहुंचा देश अनोखे
लेकर मन में आस
दो नैनो में रची हुई थी
जनम जनम की प्यास
परियों की
परियों की रानी रहती थी
परियों की
परियों की रानी रहती थी
चाँद की सुन्दर नगरी में

सोई हुई थी सुन्दर रानी
सोई हुई थी सुन्दर रानी
बंद पड़े थे नैं
जाग रहे थे लाखों कितने
जाग रहे थे लाखों कितने
करते थे बेचैन
करते थे बेचैन

आहट पाकर जागी रानी
खुले नैन के द्वार
आहट पाकर जागी रानी
खुले नैन के द्वार
जाग उठा अंगड़ाई लेकर
जाग उठा अंगड़ाई लेकर
दो हिर्दयों में प्यार
जाग उठा अंगड़ाई लेकर
जाग उठा अंगड़ाई लेकर
दो हिर्दयों में प्यार.


Lyrics in English

Chand ki sundar nagri mein
Pariyon ki
Pariyon ki raani rahti thi
Pariyon ki
Pariyon ki raani rahti thi
Chand ki sundar nagri mein
Pariyon ki
Pariyon ki raani rahti thi
Pariyon ki
Pariyon ki raani rahti thi
Chand ki sundar nagri mein

Taaron ki sundar thaali mein
Geeton ki meethi baali mein
Wo prem kahaani kahti thi
Pariyon ki
Pariyon ki raani rahti thi
Chand ki sundar nagri mein
Aaa aaa
Phool khile the us nagri mein
Kali kali lahraati thi
Muskaati thi saari bagiyaa
Raani jab muskaati thi
Pariyon ki
Pariyon ki raani rahti thi
Pariyon ki
Pariyon ki raani rahti thi
Chand ki sundar nagri mein

Ik din ik shahzaade ne
Kuchh dekha aisaa sapna
Sapne mein raani ko dekha
Kho baitha dil apna
Aaa aaa
Udkar pahunchaa desh anokhe
Lekar man mein aas
Do naino mein rachi huyi thi
Janam janam ki pyaas
Pariyon ki
Pariyon ki raani rahti thi
Pariyon ki
Pariyon ki raani rahti thi
Chand ki sundar nagri mein

Soyi huyi thi sundar rani
Soyi huyi thi sundar rani
Band pade the nain
Jaag rahe the laakhon kitne
Jaag rahe the laakhon kitne
Karte the bechain
Karte the bechain

Aahat paakar jaagi raani
Khule nain ke dwaar
Aahat paakar jaagi raani
Khule nain ke dwaar
Jaag utha angdaayi lekar
Jaag utha angdaayi lekar
Do hirdayon mein pyaar
Jaag utha angdaayi lekar
Jaag utha angdaayi lekar
Do hirdayon mein pyaar.

Leave a Reply