Fifties(1950-59)

Dharti Kahe Pukar Ke (Do Bigha Zameen)

By  | 



Song Info

Movie/Album: Do Bigha Zameen

Release: 1953

Music Director: Salil Chowdhury

Lyrics Shailendra

Singers: Lata Mangeshkar,Manna Dey and Chorus

Lyrics in Hindi

भाई रे
गंगा और जमुना की गहरी है धार
आगे या पीछे सबको जाना है पार

धरती कहे पुकारके, बीज बिछा ले प्यार के
मौसम बीता जाए, मौसम बीता जाए
अपनी कहानी छोड़ जा, कुछ तो निशानी छोड़ जा
कौन कहे इस ओर, तू फिर आए न आए
मौसम बीता जाए, मौसम बीता जाए

तेरी राह में कलियों ने नैन बिछाए
डाली-डाली कोयल काली तेरे गीत गाए
अपनी कहानी छोड़ जा, कुछ तो निशानी छोड़ जा
कौन कहे इस ओर, तू फिर आए न आए
मौसम बीता जाए, मौसम बीता जाए

भाई रे
नीला अंबर मुस्काए, हर साँस तराने गाए, हाय तेरा दिल क्यूँ मुरझाए
मन की बँसी पे तू भी कोई धुन बजा ले भाई, तू भी मुस्कुरा ले
अपनी कहानी छोड़ जा, कुछ तो निशानी छोड़ जा
कौन कहे इस ओर, तू फिर आए न आए
मौसम बीता जाए, मौसम बीता जाए

Song Trivia

Bimal Roy shot this song using the villagers of that area. The lyrics of the song made the villagers believe that they will get Mausambi after the shooting. Bimal Roy had to explain them the real meaning of lyrics later.

Official Video

Other Renditions

No video file selected

Avid music lover and Dev Anand fan

Leave a Reply