Forties(1940-49)

Dhire Dhire Aa Re Badal-Male (Kismet)

By  | 



Song Info

Movie/Album: Kismet

Release: 1943

Music Director: Anil Biswas

Lyrics Kavi Pradeep

Singers: Ashok Kumar/Arun Kumar Mukherji

Lyrics in Hindi

धीरे धीरे आ रे बादल 
धीरे धीरे जा   
मेरा बुलबुल सो रहा है शोर-गुल ना मचा
रात धुंदली हो गयी है
सारी दुनिया सो गयी है
सहजला के कह रही हैं
फूल क्यारी में
सो गयी सो गयी सो गयी 
लैला किसी की इन्तेज़ारी में
मेरी लैला को ओ बादल तू नज़र ना लगा
ओ बादल तू नज़र ना लगा
मेरा बुलबुल सो रहा है शोर गुल ना मचा
धीरे धीरे जा
ता ना ना ता ना ना ता ना ना ना ना
ता ना ना~ ता ना ना ना ना
ओ गाने वाले धीरे गाना
गीत तू अपना
क्यों?
अरे टूट जाएगा किसीकी आँख का सपना
चुपके चुपके कह रहा है मुझ से मेरा दिल
आ गयी देखो मुसाफिर प्यार कि मंज़िल
कौन गाता है रूबाई रे
फिर ये किस कि याद आई रे
किस ने पहना दी है बोलो
किस ने पहना दी है मुझ को प्रेम की माला
किस ने मेरी ज़िंदगी का रंग बदल डाला
तुम कहोगे प्रीत इस को तुम कहोगे प्यार
मैं कहूँ
मैं कहूँ दो दिल मिले हैं खिल गया संसार
दो दिलों की ये कहानी तू भी सुनता जा
ओ बादल तू भी सुनता जा

Song Trivia

In the picturised version of the song, it is sung by Ashok Kumar whereas in the audio version, Arun Kumar Mukherji’s voice was used in place of Ashok Kumar’s voice.

Official Video

Other Renditions

No video file selected

Avid music lover and Dev Anand fan

Leave a Reply