Fifties(1950-59)

Hai Bas Ke Har Ek Unke Ishaare (Mirza Ghalib)

By  | 



Song Info

Movie/Album: Mirza Ghalib



Release: 1954

Featuring Actors: Suraiyya, Bharat Bhushan

Music Director: Ghulam Mohammed

Lyrics: Ghalib

Singers: Mohammed Rafi

 

Lyrics in Hindi

है बस की हर एक उन के इशारे में निशान और
करते हैं मुहब्बत तो गुज़रता है गुमान और

या रब वो न समझे हैं न समझेंगे मेरी बात
दे और भी दिल इनको जो न दे मुझको ज़ुबाँ और

तुम शहर में हो तो हमें क्या ग़म जब उठेंगे
ले आएंगे बाज़ार से जाकर दिल-ओ-जान और

है और भी दुनिया में सुखनवार बहुत अच्छे
कहते हैं की ग़ालीब का है अंदाज़-ए-बयाँ और

 

Lyrics in English

hai bas kii har ek un ke ishaare me.n nishaan aur
karate hain muhabbat to guzarataa hai gumaan aur

yaa rab vo na samajhe hai.n na samajhenge meriibaat
de aur bhii dil inako jo na de mujhako zubaan aur

tum shahar mein ho to hamein kyaa Gam jab uthenge
le aaenge baazaar se jaakar dil-o-jaan aur

hai aur bhii duniyaa mein sukhanavaar bahut achchhe
kahate hain kii Ghalib kaa hai andaaz-e-bayaan aur

 

Official Video

No video file selected

Avid music lover and Dev Anand fan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *