Drama

Hum Khub Jante Hain (Film Hi Film)

By  | 

Movie: Film Hi Film
Release: 1983
Featuring Actors: Pran, Ramesh Deo
Music Director: Shankar Jaikishan
Lyrics: Hasrat Jaipuri
Singer: Geeta Dutt, Mohammed Rafi, Suman Kalyanpur
Trivia:

Lyrics in Hindi

हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे
हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे
कुछ कर के ही रहेंगे
आँखों के यह इशारे

हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे
हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे
कुछ कर के ही रहेंगे
आँखों के यह इशारे
हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे
हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे

जो तुम छुपा रहे हो
आँखों जाता रही हैं
एक एक करके सारे
परदे हटा रही हैं
जो तुम छुपा रहे हो
आँखों जाता रही हैं
एक एक करके सारे
परदे हटा रही हैं
अब तो सच सच बताओ
यह कौन हैं तुम्हारे
अब तो सच सच बताओ
यह कौन हैं तुम्हारे
कुछ कर के ही रहेंगे
आँखों के यह इशारे
हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे
हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे

हमें भी कुछ पता हैं
तुम्हे भी कुछ हैं खबर
पर यह बेहतर हैं
की चुप चाप कते बाकि सफर
हमें भी कुछ पता हैं
तुम्हे भी कुछ हैं खबर
पर यह बेहतर हैं
की चुप चाप कते बाकि सफर
हा हा

खुद ही दिल ढूंढ लेंगे
अपने अपने सहारे
खुद ही दिल ढूंढ लेंगे
अपने अपने सहारे
कुछ कर के ही रहेंगे
आँखों के यह इशारे
हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे
हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे

नज़र नज़र से मिली
हर एक बात खुली
कहा पे क्या हैं छुपा
अब दिलों की छः मिली
नज़र नज़र से मिली
हर एक बात खुली
कहा पे क्या हैं छुपा
अब दिलों की छः मिली
आ आ

बात करने लगे अब
हम आँखों के सहारे
बात करने लगे अब
हम आँखों के सहारे
कुछ कर के ही रहेंगे
आँखों के यह इशारे
हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे
हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे
हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे
हम खूब जानते हैं
क्या दिल में हैं तुम्हारे.


Lyrics in English

Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare
Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare
Kuch kar ke hi rahege
Aankhon ke yeh ishare

Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare
Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare
Kuch kar ke hi rahege
Aankho ke yeh ishare
Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare
Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare

Jo tum chhupa rahe ho
Aanhkhen jata rahi hain
Ek ek karke saare
Parde hata rahi hain
Jo tum chhupa rahe ho
Aanhkhen jata rahi hain
Ek ek karke saare
Parde hata rahi hain
Ab to sach sach batao
Yeh kaun hain tumhare
Ab to sach sach batao
Yeh kaun hain tumhare
Kuch kar ke hi rahege
Aankhon ke yeh ishare
Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare
Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare

Hume bhi kuch pata hain
Tumhe bhi kuch hain khabar
Par yeh behtar hain
Ki chup chap kate baki safar
Hume bhi kuch pata hain
Tumhe bhi kuch hain khabar
Par yeh behtar hain
Ki chup chap kate baki safar
Ha ha

Khud hi dil dhund lenge
Apne apne sahare
Khud hi dil dhund lenge
Apne apne sahare
Kuch kar ke hi rahege
Aankhon ke yeh ishare
Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare
Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare

Nazar nazar se mili
Har ek baat khuli
Kaha pe kya hain chhupa
Ab dilo ki chhaha mili
Nazar nazar se mili
Har ek baat khuli
Kaha pe kya hain chhupa
Ab dilo ki chhaha mili
Aa aa

Baat karne lage ab
Hum aankhon ke sahare
Baat karne lage ab
Hum aankhon ke sahare
Kuch kar ke hi rahege
Aankhoh ke yeh ishare
Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare
Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare
Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare
Hum khub jante hain
Kya dil mein hain tumhare.

Leave a Reply