Drama

Hum To Jhuk Kar (Fakira)

By  | 

Movie: Fakira
Release: 1976
Featuring Actors: Shashi Kapoor, Shabana Azmi
Music Director: Ravindra Jain
Lyrics: Ravindra Jain
Singer: Aziz Nazan, Bhushan Mehta, Kishore Kumar, Mahendra Kapoor
Trivia:

Lyrics in Hindi

हम तो झुक कर सलाम करते है
हम तो झुक कर सलाम करते है
वो नजर से सलाम करते है
वो नजर से सलाम करते है
सलाम करते है
हम तो झुक कर झुक कर
सलाम करते है
वो नजर से नजर से
सलाम सलाम करते है
करते है हम तो झुक कर
सलाम करते है

ये करिश्मा तो देखो नसीब का
देखो नसीब का उनसे निकला है
रिश्ता करीब का देखो क़रीब का
ये करिश्मा तो देखो नसीब का
नसीब का उनसे निकला है
रिश्ता करीब का करीब का
ये करिश्मा तो देखो नसीब का
उनसे निकला है रिश्ता करीब का
जिनके घर हम कायम करते है
जिनके घर हम कायम करते है

हम अभी इंतज़ाम करते है
हम अभी इंतज़ाम करते है
खेल उल्टा तमाम करते है
खेल उल्टा तमाम तमाम करते है
हम अभी इंतज़ाम करते है

ऐसा मौका तो
मिलता है कभी कभी
हे जी कभी कभी
इनकी खातिर तवज्जो
तो करदे अभी अभी
हा जी अभी अभी

बड़ा ही फायदा हमें
हुआ है आज महफ़िल से
जिन्हे हम ढूँढ़ते फिर ते है
आज आये है मुश्किल से
ऐसा मौका तो
मिलता है कभी कभी
इनकी खातिर तवज्जो
तो करदे अभी अभी
इनके जलवो को आम करते है
इनके जलवो को आम करते है

हम डर के मारे सलाम
सलाम करते है करते है
वो अकड़ के अकड के
सलाम सलाम करते है करते है
फिर भी सो सो सलाम करते है

ये मुलाकात कोई नयी नहीं
हा जी नयी नहीं मिल ही जाते है
अक्सर कही न कही
वो हमारा ही काम करते है
वो हमारा ही काम करते है
हम अभी इंतज़ाम करते है

हमसे इज़्ज़त मिली
हमसे शोहरत मिली
हमसे शोहरत मिली
नोकरी इनको अपनी बदौलत मिली
हमको पकड़ा के नाम करते है
हमको पकड़ा के नाम करते है
ाजी नाम करते है
हम अभी इंतज़ाम करते है
हम अभी इंतज़ाम करते है

हम डर के मारे सलाम
सलाम करते है करते है
वो अकड़ के अकड के
सलाम सलाम करते है करते है
हम तो यूहीं सलाम करते है
हम तो यूहीं सलाम करते है.


Lyrics in English

Ham to jhuk kar salam karte hai
Ham to jhuk kar salam karte hai
Wo najar se salam karte hai
Wo najar se salam karte hai
Salam karte hai
Hum to jhuk kar jhuk kar
Salam karte hai
Wo najar se najar se
Salam salam karte hai
Karte hai hum to jhuk kar
Salam karte hai

Ye karishma to dekho nasib ka
Dekho nasib ka unse nikla hai
Rishta karib ka dekho karib ka
Ye karishma to dekho nasib ka
Nasib ka unse nikla hai
Rishta karib ka karib ka
Ye karishma to dekho nasib ka
Unse nikla hai rishta karib ka
Jinke ghar hum kayam karte hai
Jinke ghar hum kayam karte hai

Hum abhi intzam karte hai
Hum abhi intzam karte hai
Khel ulta tamam karte hai
Khel ulta tamam tamam karte hai
Hum abhi intzam karte hai

Aisa mauka to
Milta hai kabhi kabhi
He ji kabhi kabhi
Inki khatir tawajo
To karde abhi abhi
Ha ji abhi abhi

Bada hi fayda hame
Hua hai aaj mahfil se
Jinhe hum dhundhte fir te hai
Aaj aaye hai mushkil se
Aisa mauka to
Milta hai kabhi kabhi
Inki khatir tawajo
To karde abhi abhi
Inke jalwo ko aam karte hai
Inke jalwo ko aam karte hai

Hum dar ke mare salam
Salam karte hai karte hai
Wo akad ke akad ke
Salam salam karte hai karte hai
Fir bhi so so salam karte hai

Ye mulakat koi nayi nahi
Ha ji nayi nahi mil hi jate hai
Aksar kahi na kahi
Wo hamara hi kam karte hai
Wo hamara hi kam karte hai
Hum abhi intzam karte hai

Humse izzat mili
Hamse sohrat mili
Hamse sohrat mili
Nokri inko apni badolat mili
Hamko pakda ke naam karte hai
Hamko pakda ke naam karte hai
Aji naam karte hai
Hum abhi intzam karte hai
Hum abhi intzam karte hai

Hum dar ke mare salam
Salam karte hai karte hai
Wo akad ke akad ke
Salam salam karte hai karte hai
Hum to yuhi salam karte hai
Hum to yuhi salam karte hai.

Leave a Reply