Drama

Ik Sukh Ka Ik Dukh Ka (Ghar Aaya Mera Pardesi)

By  | 

Movie: Ghar Aaya Mera Pardesi
Release: 1993
Featuring Actors: Bhagyashree, Vikram Gokhale
Music Director: Vijay Singh
Lyrics: Ravindra Peepat
Singer:  Anuradha Paudwal
Trivia:

Lyrics in Hindi

इक सुख का इक दुःख का मौसम
पथ्जद कभी बहा
खेल विधाता बैठे खेले
खेले रंग हज़ार
समझ न पाया इंसान कोई
कभी भी उसका पार
खुशिया भरते झोली में
पर आंसू देता सात
इक सुख का इक दुःख का मौसम

नींद खुली तो टुटा सपना
सपना एक सलोना
हो टूट गया तो क्या अब रोना
मिटटी का था खिलौना
लिखा है जो होना है वो
सब किस्मत के हाथ
खेल विधाता बैठे खेले
खेले रंग हज़ार
इक सुख का इक दुःख का मौसम

तुमने मुझसे प्यार किया है
ये कब तुमने कहा था
हो मेरी नज़र का मौका था जो
बानी रहा सजा था
आंसू मेरे बह निकले तो
गजरा हो गया साफ़
खेल विधाता बैठे खेले
खेले रंग हज़ार
इक सुख का इक दुःख का मौसम
पथ्जद कभी बहा
खेल विधाता बैठे खेले
खेले रंग हज़ार
खेले रंग हज़ार
खेले रंग हज़ार.


Lyrics in English

Ik sukh ka ik dukh ka mausam
Pathjad kabhi baha
Khel vidhata baithe khele
Khele rang hazaar
Samaj na paya insaan koi
Kabhi bhi uska paar
Khushiya bharta jholi mein
Par aansu deta saat
Ik sukh ka ik dukh ka mausam

Neend khuli to tuta sapna
Sapna ek salona
Ho tut gaya to kya ab rona
Mitti ka tha khilona
Likha hai jo hona hai wo
Sab kismat ke haath
Khel vidhata baithe khele
Khele rang hazaar
Ik sukh ka ik dukh ka mausam

Tumne mujhse pyar kiya hai
Ye kab tumne kaha tha
Ho meri nazar ka mauka tha jo
Bani raha saja tha
Aansu mere beh nikle to
Gajra ho gaya saaf
Khel vidhata baithe khele
Khele rang hazaar
Ik sukh ka ik dukh ka mausam
Pathjad kabhi baha
Khel vidhata baithe khele
Khele rang hazaar
Khele rang hazaar
Khele rang hazaar.

Leave a Reply