Drama

Jab Dil Churaye Koi (Gunaah)

By  | 

Movie: Gunaah
Release: 2002
Featuring Actors: Dino Morea, Bipasha Basu
Music Director: Anand Raj Anand
Lyrics: Praveen Bhardwaj
Singer:   Alka Yagnik, Babul Supriyo
Trivia:

Lyrics in Hindi

जब दिल चुराए कोई अपना बनाये कोई
सपने दिखाए और हो जाए फिर जुदा
जब दिल चुराए कोई अपना बनाये कोई
सपने दिखाए और हो जाए फिर जुदा
चाहत के सब अफ़साने दिल जिन को सच ही माने
बन के वह रह जाते है एक अनसुनी सदा
हो क्यों देखके हुमंने चाहत के सपने
यह दिल सोचता है और रोता है ज़ार ज़ार
जब दिल चुराए कोई अपना बनाये कोई

सपने दिखाए और हो जाए फिर जुदा
यह दूरियां दिल की मजबूरियां दिल की
सच है मगर फिर भी माने न दिल मेरा
भीगी सी आँखों में सुनि सी राहों में
हम ले चले है कितनी यादों का कारवाँ हो
अब मैं ही मनन में दीवानापन में
दिल सोचता है और रोता है ज़ार ज़ार
जब दिल चुराए कोई अपना बनाये कोई
सपने दिखाए और हो जाए फिर जुदा
जब दिल चुराये कोई
है हा हा
हा हा हा

दिल में तमन्ना है दिल में ईरादे है
ख़्वाबों के मेले लेके जयों भी कहाँ
कुछ तुम न कह सके कुछ हम न कह सके
जाने क्यों हो जाती है खामोश यह जुबां हो
क्या दिल को हो गया क्या दिल कहाँ कोह गया
दिल सोचता है और रोता है ज़ार ज़ार
जब दिल चुराए कोई अपना बनाये कोई
सपने दिखाए और हो जाए फिर जुदा
चाहत के सब अफ़साने दिल जिन को सच ही माने
बन के वह रह जाते है एक अनसुनी सदा.


Lyrics in English

Jab dil churaye koyi apna banaye koyi
Sapne dikhaye aur ho jaaye phir juda
Jab dil churaye koyi apna banaye koyi
Sapne dikhaye aur ho jaaye phir juda
Chaahat ke sab afsaane dil jin ko sach hi maane
Ban ke woh reh jaate hai ek ansuni sada
Ho kyon dekhke hummne chaahat ke sapne
Yeh dil sochta hai aur rota hai zar zar
Jab dil churaye koyi apna banaye koyi

Sapne dikhaye aur ho jaaye phir juda
Yeh dooriyan dil ki majbooriyan dil ki
Sach hai magar phir bhi maane na dil mera
Bheegi si aankhon mein suni si raahon mein
Hum le chale hai kitni yaadon ka karvaan ho
Ab mann hi mann mein deewanapan mein
Dil sochta hai aur rota hai zar zar
Jab dil churaye koyi apna banaye koyi
Sapne dikhaye aur ho jaaye phir juda
Jab dil churaye koyi
Hai ha ha
Ha ha ha

Dil mein tamanna hai dil mein iraade hai
Khwaabon ke mele leke jaeon bhi kahan
Kuch tum na keh sake kuch hum na keh sake
Jaane kyon ho jaati hai khaamosh yeh zubaan ho
Kya dil ko ho gaya kya dil kahan koh gaya
Dil sochta hai aur rota hai zar zar
Jab dil churaye koyi apna banaye koyi
Sapne dikhaye aur ho jaaye phir juda
Chaahat ke sab afsaane dil jin ko sach hi maane
Ban ke woh reh jaate hai ek ansuni sada.

Leave a Reply