Drama

Jab Dosti Hoti Hai (Biwi Aur Makan)

By  | 

Movie: Biwi Aur Makan
Release: 1966
Featuring Actors: Biswajeet, Kalpana
Music Directors: Hemanta Kumar
Lyrics: Gulzar
Singers: Manna Dey, Ghulam Mohammad, Hemanta Kumar 
Trivia:

Lyrics in Hindi

अहसान नहीं होता
जब दोस्ती है तो दोस्ती होती है
और दोस्तों के कोई अहसान नहीं होता
जब दोस्ती है तो
जब दोस्ती है तो दोस्ती होती है
और दोस्तों के कोई अहसान नहीं होता
जब दोस्ती है तो

अरे जल बिन तड़पत मछली
जैसे नल बिन तड़पे पानी
अरे जल बिन तड़पत मछली
जैसे नल बिन तड़पे पानी
अरे जल बिन तड़पत मछली
जैसे नल बिन तड़पे पानी
अरे जल बिन तड़पत मछली
जैसे नल बिन तड़पे पानी
अरे साफ पानी बिना चलते
अस्नान नहीं होता
जब दोस्ती है तो दोस्ती होती है
और दोस्तों के कोई अहसान नहीं होता
जब दोस्ती है तो

ये पांचों की पंचायत जो सोचे सही होगा
हम पांडव है भारत के जो कहदे वही होगा
ये पांचों की पंचायत जो सोचे सही होगा
हम पांडव है भारत के जो कहदे वही होगा
ोये जम के खिदमा दू
दूध का दही होगा तो दूध का दही होगा
मीरा के परभी कहत कबीरा
जीवन कज करम कष्टिरा
मीरा के परभी कहत कबीरा
जीवन कज करम कष्टिरा
और कषट बिना ये जीवन आसान नहीं होता
जब दोस्ती है तो दोस्ती होती है
और दोस्तों के कोई अहसान नहीं होता
जब दोस्ती है तो

ऊँगली से ऊँगली का जब तक जोड़ सलामत
हाथ सलामत छोटी बड़ी है तो क्या
पांचो है तो हाथ सलामत
एक एक के है पञ्च मुक़द्दर
तकलीफों से घबराना मत
नाज़े जोड जवानी पञ्च से पाँच मील तो
बचपन पांचो साथ है
नुकसान नहीं होता
जब दोस्ती है तो दोस्ती होती है
और दोस्तों के कोई अहसान नहीं होता
जब दोस्ती है तो.


Lyrics in English

Ahsan nahi hota
Jab dosti hai to dosti hoti hai
Or dosto ke koi ahsan nahi hota
Jab dosti hai to
Jab dosti hai to dosti hoti hai
Or dosto ke koi ahsan nahi hota
Jab dosti hai to

Are jal bin tadpat machli
Jaise nal bin tadpe pani
Are jal bin tadpat machli
Jaise nal bin tadpe pani
Are jal bin tadpat machli
Jaise nal bin tadpe pani
Are jal bin tadpat machli
Jaise nal bin tadpe pani
Are saf pani bina chalte
Asnan nahi hota
Jab dosti hai to dosti hoti hai
Or dosto ke koi ahsan nahi hota
Jab dosti hai to

Ye pancho ki panchayat jo soche sahi hoga
Hum pandaw hai bharat ke jo kahde wahi hoga
Ye pancho ki panchayat jo soche sahi hoga
Hum pandaw hai bharat ke jo kahde wahi hoga
Oye jam ke khidma du
Dudh ka dahi hoga to dudh ka dahi hoga
Meera ke parbhi kahat kabira
Jiwan kaj karam kashtira
Meera ke parbhi kahat kabira
Jiwan kaj karam kashtira
Aur kashat bina ye jiwan aasan nahi hota
Jab dosti hai to dosti hoti hai
Or dosto ke koi ahsan nahi hota
Jab dosti hai to

Ungli se ungli ka jab tak jod salamat
Hath salamat choti badi hai to kya
Pancho hai to hath salamat
Ek ek ke hai panch mukaddar
Taklifo se ghabrana mat
Naje jod jawani panch se panch mile to
Bachpan pancho sath hai
Nuksan nahi hota
Jab dosti hai to dosti hoti hai
Or dosto ke koi ahsan nahi hota
Jab dosti hai to.

Leave a Reply