Qawwalis

Jab Ishq Kahin Ho Jata Hai (Arzoo)

By  | 



Song Info

Movie/Album: Arzoo

Release: 1965

Music Director:Shankar-Jaikishan

Lyrics Hasrat Jaipuri

Singers:Mubarak Begum, Asha Bhonsle

Lyrics in Hindi

जब इश्क़ कहीं हो जाता है तब ऐसी हालत होती है

महफ़िल में जी घबराता है तन्हाई की आदत होती है

जब इश्क़—-

महफ़िल में—

ये इश्क़ छुपाये छुप न सका ये इश्क़ वो चलता जादू है

हाय कुछ होश नहीं रहते कायम इस इश्क़ पे ऐसा काबू है

हाय इश्क़ में जोखिम इतने गोया महबूब का गेसू है

हर ज़ानिब फैलती जाती है इस इश्क़ की ऐसी खुशबू है

चेहरे से हया हो जाती है क्या चीज़ मोहब्बत होती है

महफ़िल में जी घबराता है तन्हाई की आदत होती है

जब इश्क़ कहीं हो जाता है तब ऐसी हालत होती है

महफ़िल में जी घबराता है तन्हाई की आदत होती है

जब इश्क़—

अव्वल तो कभी नींद आती नहीं आती हैं तो ख्वाब सताते हैं

डसती है जुदाई की घड़ियाँ तन्हाई के दिन तड़पाते है

घुटता है गला रुकता है दम आंसू के दिए थर्राते हैं

सपनो में वो मिलने आते है गम देके चले भी जाते हैं

हर रोज़ ये मेले होते हैं हर रोज़ क़यामत होती है

महफ़िल में जी घबराता है तन्हाई की आदत होती है

जब इश्क़—

महफ़िल में—

जब इश्क़—

आँखों में है लाखों अफ़साने खामोश है लब वो मंजिल है

हर सांस में लाखों तूफान हैं तूफान में दिल का साहिल है

अरमान मचलते रहते हैं ये दर्द बड़ा ही कातिल है

रोके से क़यामत रुक जाए पर रोकना भी कम मुश्किल है

दिलदार की प्यासी आँखों को दीदार की हसरत होती है

महफ़िल में जी—

जब इश्क़–

Song Trivia

Official Video

Other Renditions

No video file selected

Leave a Reply