Drama

Jai Janani Jai Bharat Maa (Dharmputra)

By  | 

Movie: Dharmputra
Release: 1961
Featuring Actors: Mala Sinha, Shashi Kapoor
Music Directors: Datta Naik
Lyrics: Sahir Ludhianvi
Singers: Mahendra Kapoor
Trivia:

Lyrics in Hindi

बगावत का खुला पैगाम
देता हूँ जवानों को
अरे उठो उठ कर मिटा दो
तुम ग़ुलामी के निशानों को

जय जननी जय भारत माँ
जय जननी जय भारत माँ
जय जननी जय भारत माँ
उठो गागा की गोदी से
उठे सतलुज के साहिल से

उठो दक्खन के सीने से
उठो बगाल के दिल से
निकालो अपनी धरती से
बिदेशी हुक्मरानों को
उठो उठ कर मिटा दो
तुम ग़ुलामी के निशानों को
जय जननी जय भारत माँ
जय जननी जय भारत माँ
जय जननी जय भारत माँ

ख़िज़ाँ की क़ैद से उजड़ा
चमन आज़ाद कराना है
हमें अपनी ज़मी अपना
वतन आज़ाद कराना है
जो गद्दारी सिखाये
खींच लो उनकी ज़बानो को

उठो उठ कर मिटा दो
तुम ग़ुलामी के निशानों को
जय जननी जय भारत माँ
जय जननी जय भारत माँ
जय जननी जय भारत माँ

ये सौदागर जो इस धरती
पे कब्ज़ा कर के बैठे है
हमारे खून से अपने
खजाने भर के बैठे है
इन्हे कह दो के अब वापस
करे सारे ख़ज़ानों को
उठो उठ कर मिटा दो
तुम ग़ुलामी के निशानों को

जय जननी जय भारत माँ
जय जननी जय भारत माँ
जय जननी जय भारत माँ
जो इन खेतो का दाना
दुश्मनो के काम आना है

जो इन कानो का सोना
अजनबी देशो को जाना है
तो फूंको सारी फसलों को
जला दो साड़ी कानो को
उठो उठ कर मिटा दो
तुम ग़ुलामी के निशानों को
जय जननी जय भारत माँ
जय जननी जय भारत माँ
जय जननी जय भारत माँ

बहुत झेली गुलामी की
बलाये अब न झेलेंगे
बहुत झेली गुलामी की
बलाये अब न झेलेंगे
चढेगे फांसियों पर
गोलियों को हँस के झेलेगे
चढेगे फांसियों पर
गोलियों को हँस के झेलेगे

उन्ही पर मोड़ देंगे
उनकी तोपों के दहानो को
उन्ही पर मोड़ देंगे
उनकी तोपों के दहानो को
उठो उठ कर मिटा दो
तुम ग़ुलामी के निशानों को.


Lyrics in English

Bagaawat kaa khulaa paigaam
Detaa hun jawaano ko
Are utho uth kar mitaa do
Tum gulaami ke nishaano ko

Jay janani jay bharat maa
Jay janani jay bharat maa
Jay janani jay bharat maa
Utho gagaa ki godi se
Utho sataluj ke saahil se

Utho dakkhan ke sine se
Utho bagaal ke dil se
Nikaalo apani dharati se
Bideshi hukmaraano ko
Utho uth kar mitaa do
Tum gulaami ke nishaano ko
Jay janani jay bharat maa
Jay janani jay bharat maa
Jay janani jay bharat maa

Khizaan ki qaid se ujadaa
Chaman aazaad karanaa hai
Hame apani zami apanaa
Watan aazaad karanaa hai
Jo gaddaari sikhaaye
Khinch lo unaki zabaano ko

Utho uth kar mitaa do
Tum gulaami ke nishaano ko
Jay janani jay bharat maa
Jay janani jay bharat maa
Jay janani jay bharat maa

Ye saudaagar jo is dharati
Pe qabzaa kar ke baithe hai
Hamaare khun se apane
Khazaane bhar ke baithe hai
Inhe kah do ke ab waapas
Kare saare khazaano ko
Utho uth kar mitaa do
Tum gulaami ke nishaano ko

Jay janani jay bharat maa
Jay janani jay bharat maa
Jay janani jay bharat maa
Jo in kheto kaa dana
Dushmano ke kaam aanaa hai

Jo in kaano kaa sonaa
Ajanabi desho ko jana hai
To phunko saari faslo ko
Jalaa do saari kaano ko
Utho uth kar mitaa do
Tum gulaami ke nishaano ko
Jay janani jay bharat maa
Jay janani jay bharat maa
Jay janani jay bharat maa

Bahut jheli gulaami ki
Balaaye ab na jhelege
Bahut jheli gulaami ki
Balaaye ab na jhelege
Chadhege phaansiyo par
Goliyo ko hans ke jhelege
Chadhege phaansiyo par
Goliyo ko hans ke jhelege

Unhi par mod dege
Unaki topo ke dahaano ko
Unhi par mod dege
Unaki topo ke dahaano ko
Utho uth kar mitaa do
Tum gulaami ke nishaano ko.

Leave a Reply