Drama

Jali Hai Nafrat (Ganga Aur Suraj)

By  | 

Movie: Ganga Aur Suraj
Release: 1980
Featuring Actors: Sunil Dutt, Reena Roy, Shashi Kapoor, Sulakhshana Pandit
Music Director: Laxmikant Pyarelal
Lyrics:  Kafil Azar
Singer: Asha Bhosle
Trivia:

Lyrics in Hindi

जली है नफरत की आग दिल में
नगर से शोले बरस रहे है
जली है नफरत की आग दिल में
नगर से शोले बरस रहे है
जली है नफरत की आग दिल में
नगर से शोले बरस रहे है
हमारे ख़ंजर अरे सितमगर
लहू को तेरे तरस रहे है
हमारे ख़ंजर अरे सितमगर
हमारे ख़ंजर अरे सितमगर
लहू को तेरे तरस रहे है

आज की शाम देख के खुश हु
तुझको बदनाम देख के खुश हु
तेरा अंजाम देख के खुश हु
आज की शाम देख के खुश हु
दुखो की बिजली चमक रही है
सजा के बादल बरस रहे है
तेरा गुरुर और मेरी जवानी
मेरी तबही पे हंस रहे है
तेरा गुरुर और मेरी जवानी
तेरा गुरुर और मेरी जवानी
मेरी तबही पे हंस रहे है

वो भी दिन थे के दिल की राहों में
वो भी दिन थे के दिल की राहों में
आने वाला था कोई बहो में
ख्वाब था प्यासी निगाहों में
अभी तलक हसीं घडियो को
प्यार के पल तरस रहे है
किसी की यादो के नाराम साए
मेरे खयालों में बस रहे है
किसी की यादो के नाराम साए
किसी की यादो के नाराम साए
मेरे खयालों में बस रहे है

राज़ की बात कोई क्या जाने
ये मुलाकात कोई क्या जाने
मेरी सौहत कोई क्या जाने
राज़ की बात कोई क्या जाने
स्वीकार कर ले वो आये थे जो
वो जल में अपने फास रहे है
ये नाग कर देंगे काम तेरा
जो तेरे हाथो को दस रहे है
ये नाग कर देंगे काम तेरा
ये नाग कर देंगे काम तेरा
जो तेरे हाथो को दस रहे है
हमारे ख़ंजर हमारे ख़ंजर
हमारे ख़ंजर अरे सितमगर
लहू को तेरे तरस रहे है.


Lyrics in English

Jali hai nafrat ki aag dil me
Nagar se shole baras rahe hai
Jali hai nafrat ki aag dil me
Nagar se shole baras rahe hai
Jali hai nafrat ki aag dil me
Nagar se shole baras rahe hai
Hamare khanjar arey sitamgar
Lahu ko tere taras rahe hai
Hamare khanjar arey sitamgar
Hamare khanjar arey sitamgar
Lahu ko tere taras rahe hai

Aaj ki sham dekh ke khush hu
Tujhko badnaam dekh ke khush hu
Tera anjam dekh ke khush hu
Aaj ki sham dekh ke khush hu
Dukho ki bijli chamak rahi hai
Saza ke badal baras rahe hai
Tera gurur aur meri jawani
Meri tabahi pe hans rahe hai
Tera gurur aur meri jawani
Tera gurur aur meri jawani
Meri tabahi pe hans rahe hai

Wo bhi din the ke dil ki raho me
Wo bhi din the ke dil ki raho me
Aane wala tha koi baho me
Khwab tha pyasi nigaho me
Abhi talak hasin ghadiyo ko
Pyar ke pal taras rahe hai
Kisi ki yado ke naram saye
Mere khayalo me bas rahe hai
Kisi ki yado ke naram saye
Kisi ki yado ke naram saye
Mere khayalo me bas rahe hai

Raz ki bat koi kya jane
Ye mulakat koi kya jane
Meri sauhat koi kya jane
Raz ki bat koi kya jane
Savikar kar le wo aaye the jo
Wo jal me apne fas rahe hai
Ye nag kar denge kam tera
Jo tere hatho ko das rahe hai
Ye nag kar denge kam tera
Ye nag kar denge kam tera
Jo tere hatho ko das rahe hai
Hamare khanjar hamare khanjar
Hamare khanjar arey sitamgar
Lahu ko tere taras rahe hai.

Leave a Reply