Drama

Jeete Hain Yahan (Escape From Taliban)

By  | 

Movie: Escape From Taliban
Release: 2003
Featuring Actors: Manisha Koirala, Nawab Shah
Music Director: Vanraj Bhatia
Lyrics: Mehboob Alam Kotwal
Singer: Sneha Pant
Trivia:

Lyrics in Hindi

जीते हैं यहाँ
जीते हैं यहाँ
लोग मगर लोग मगर
फिर भी यहाँ
फिर भी यहाँ
ज़िन्दगी थम सी गयी
ज़िन्दगी थम सी गयी
जन्नत सी थी यह ज़मीन
जन्नत सी थी यह ज़मीन
एक जहनुम बन गयी
जीते हैं यहाँ
जीते हैं यहाँ
लोग मगर लोग मगर
फिर भी यहाँ
फिर भी यहाँ
ज़िन्दगी थम सी गयी
ज़िन्दगी थम सी गयी

बर्बादी हैं चारो तरफ
छाया हुआ मातम सा हैं
आज़ादी भी अब क्विड हैं
हर जान पे एक सितम सा हैं
तपता हुआ सेहरा यहाँ
जलता हुआ हर दिल भी हैं
टुटा यकीं लेकिन कभी
उम्मीद की किरण भी हैं
कभी तो ख़ुशी की आएगी
वो सुबह
ग़म की रात यह कह के गयी
जीते हैं यहाँ
जीते हैं यहाँ
लोग मगर लोग मगर
फिर भी यहाँ
फिर भी यहाँ
ज़िन्दगी थम सी गयी
ज़िन्दगी थम सी गयी
जन्नत सी थी यह ज़मीन
जन्नत सी थी यह ज़मीन
एक जहनुम बन गयी
जीते हैं यहाँ
जीते हैं यहाँ
लोग मगर लोग मगर

अब घ्यान की समां जले
बढ़ने भी दो अब होसले
औरत हो तुम तोड़ो मगर
अब जुल्म के यह सिलसिले
आवाज़ दो खुद को ज़रा
इन्साफ की देवी बनो
तुमको भी तो रब ने रचा
अन्याय को तुम क्यों सहो
जीत का परचम लेके उठो तुम
हर की गाडिया बीत गयी
जन्नत सी थी यह ज़मीन
जन्नत सी थी यह ज़मीन
एक जहनुम बन गयी.


Lyrics in English

Jeete hain yahan
Jeete hain yahan
Log magar log magar
Phir bhi yaha
Phir bhi yaha
Zindagi tham si gayi
Zindagi tham si gayi
Jannat si thi yeh zameen
Jannat si thi yeh zameen
Ek jahanum ban gayi
Jeete hain yahan
Jeete hain yahan
Log magar log magar
Phir bhi yaha
Phir bhi yaha
Zindagi tham si gayi
Zindagi tham si gayi

Barbadi hain charo taraf
Chhaya hua matam sa hain
Aazadi bhi ab quid hain
Har jaan pe ek sitam sa hain
Tapata hua sehra yaha
Jalta hua har dil bhi hain
Tuta yakin lekin kabhi
Ummid ki kiran bhi hain
Kabhi to khushi ki aayegi
Wo subaha
Gham ki raat yeh keh ke gayi
Jeete hain yahan
Jeete hain yahan
Log magar log magar
Phir bhi yaha
Phir bhi yaha
Zindagi tham si gayi
Zindagi tham si gayi
Jannat si thi yeh zameen
Jannat si thi yeh zameen
Ek jahanum ban gayi
Jeete hain yahan
Jeete hain yahan
Log magar log magar

Ab ghyan ki sama jale
Badne bhi do ab hosle
Aurat ho tum todo magar
Ab julm ke yeh silsile
Aawaz do khud ko zara
Insaaf ki devi bano
Tumko bhi to rab ne racha
Anyay ko tum kyu saho
Jeet ka parcham leke utho tum
Har ki gadiya beet gayi
Jannat si thi yeh zameen
Jannat si thi yeh zameen
Ek jahanum ban gayi.

Leave a Reply