Drama

Jind Le Gaya Wo Dil Ka Jaani (Aap Ke Saath)

By  | 

Movie: Aap Ke Saath
Release:  1986
Featuring Actors: Anil Kapoor, Vinod Mehra, Smita Patil, Rati Agnihotri
Music Directors: Laxmikant Pyarelal
Lyrics: Anand Bakshi
Singers: Lata Mangeshkar.
Trivia:

Lyrics in Hindi

जींद ले गया वह दिल का जानि
यह बूत बेजान रह गया
जींद ले गया ज़िंद ले गया
वह दिल का जानि ज़िंद ले गया
वह दिल का जानि
यह बूत बेजान रह गया
यह बूत बेजान रह गया
जींद ले गया
मेहमान चला गया घर से
यह खाली मकान रह गया
जींद ले गया वह दिल का जानि
यह बूत बेजान रह गया
जींद ले गया
खाबों सी तकदीरें
खाबों सी तकदीरें
कब बनती हैं
पानी पे तस्बीरे
पानी पे तस्बीरे
कब बनती हैं

न रंग रहा कोई बाकी न कोई
निशाँ रह गया ज़िंद ले गया
जींद ले गया वह दिल का जानि
यह बूत बेजान रह गया
जींद ले गया
उस आंधी का उस तूफ़ान का
जोर किसी को याद नहीं हैं
आयी थी इक रोज़ क़यामत और
किसी को याद नहीं हैं
बस एक मेरा दिल टुटा यह
सारा जहाँ रह गया ज़िंद ले गया
जींद ले गया वह दिल का जानि

यह बूत बेजान रह गया ज़िंद ले गया
अपने जख्मों अपने सदामो से
मैं कितनी शर्मिन्दा हूँ
क्या कारण हैं क्या हैं सबब जो
आज भी अब्ब भी मैं ज़िंदा हूँ
लगता हैं कि मेरा बाकी कोई
इम्तेहान रह गया ज़िंद ले गया
जींद ले गया वह दिल का जानि
यह बूत बेजान रह गया
जींद ले गया
मेहमान चला गया घर से
यह खाली मकान रह गया
जींद ले गया वह दिल का जानि
यह बूत बेजान रह गया
जींद ले गया
जींद ले गया ज़िंद ले गया


Lyrics in English

Zind le gaya woh dil ka jaani
Yeh but bejaan reh gaya
Zind le gaya zind le gaya
Woh dil ka jaani zind le gaya
Woh dil ka jaani
Yeh but bejaan reh gaya
Yeh but bejaan reh gaya
Zind le gaya
Mehmaan chala gaya ghar se
Yeh khaali makaan reh gaya
Zind le gaya woh dil ka jaani
Yeh but bejaan reh gaya
Zind le gaya
Khaabon si takdirein
Khaabon si takdirein
Kab banati hain
Paani pe tasbire
Paani pe tasbire
Kab banati hain

Na rang raha koyi baaki na koyi
Nishaan reh gaya zind le gaya
Zind le gaya woh dil ka jaani
Yeh but bejaan reh gaya
Zind le gaya
Uss aandhi ka uss tufaan ka
Jor kisi ko yaad nahin hain
Aayi thi ik roj kayaamat aur
Kisi ko yaad nahin hain
Bas ek mera dil tuta yeh
Sara jaha reh gaya zind le gaya
Zind le gaya woh dil ka jaani

Yeh but bejaan reh gaya zind le gaya
Apane jakhmon apane sadamo se
Main kitani sharminda hoon
Kya kaaran hain kya hain sabab jo
Aaj bhi abb bhi main zinda hoon
Lagata hain ke mera baaki koyi
Imtehaan reh gaya zind le gaya
Zind le gaya woh dil ka jaani
Yeh but bejaan reh gaya
Zind le gaya
Mehmaan chala gaya ghar se
Yeh khaali makaan reh gaya
Zind le gaya woh dil ka jaani
Yeh but bejaan reh gaya
Zind le gaya
Zind le gaya zind le gaya.

Leave a Reply