Drama

Kahan Le Chale Ho (Durgesh Nandini)

By  | 

Movie: Durgesh Nandini
Release: 1956
Featuring Actors: Pradeep Kumar, Ajit, Nalini Jaywant
Music Director: Hemanta Kumar
Lyrics: Rajendra Krishan
Singer: Lata Mangeshkar
Trivia:

Lyrics in Hindi

कहाँ ले चले हो
बता दो मुसाफिर
सितारों से आगे
ये कैसा जहाँ है
कहाँ ले चले हो
बता दो मुसाफिर
सितारों से आगे
ये कैसा जहाँ है
ख्यालों की मंज़िल ये
ख्वाबों की महफ़िल
समझ में न आये
ये दुनिया कहाँ है

कहाँ रह गए
काफिलें बादलों के
कहाँ रह गए
काफिलें बादलों के
ज़मीं छुप गयी
है ठाले बादलों के
है मुझ को यकीं के
है जन्नत यहीं है
ये अजब सी फ़िज़ा है
अजब ये समां है
कहाँ ले चले
हो बता दो मुसाफिर
सितारों से आगे
ये कैसा जहाँ है

नज़र की दवा का
जवाब आ रहा है
नज़र की दवा का
जवाब आ रहा है
मेरी आरजू पे
शबाब आ रहा है
ये खामोशियाँ
भी हैं इक दास्ताँ
कोई कहता है मुझसे
मोहब्बत जवां है
कहाँ ले चले हो
बता दो मुसाफिर
सितारों से आगे
ये कैसा जहाँ है

मुहब्बत भरी इस
जहाँ की हैं राहें
मुहब्बत भरी इस
जहाँ की हैं राहें
जिन्हें देख कर खो
गयी हैं निगाहें
ये हलाकि हवा
लायी कैसा नशा
न रहा होश इतना
मेरा दिल कहाँ है
कहाँ ले चले हो
बता दो मुसाफिर
सितारों से आगे
ये कैसा जहाँ है
ख्यालों की मंज़िल
ये ख्वाबों की महफ़िल
समझ में न आये
ये दुनिया कहाँ है.


Lyrics in English

Kahan le chale ho
Bata do musafir
Sitaron se aage
Ye kaisa jahan hai
Kahan le chale ho
Bata do musafir
Sitaron se aage
Ye kaisa jahan hai
Khayalon ki manzil ye
Khwabon ki mahafil
Samajh men na aaye
Ye duniya kahan hai

Kahan rah gaye
Kaafilen badalon ke
Kahan rah gaye
Kaafilen badalon ke
Zamin chhup gayi
Hai tale badalon ke
Hai mujh ko yakeen ke
Hai jannat yahin hai
Ye ajab si fiza hai
Ajab ye sama hai
Kahaan le chale
Ho bata do musafir
Sitaaron se aage
Ye kaisa jahan hai

Nazar ki duwa ka
Jawab aa raha hai
Nazar ki duwa ka
Jawab aa raha hai
Meri aarazu pe
Shabab aa raha hai
Ye khamoshiyan
Bhi hain ik dastan
Koi kahata hai mujhase
Mohabbat jawan hai
Kahaan le chale ho
Bata do musafir
Sitaaron se aage
Ye kaisa jahan hai

Muhabbat bhari is
Jahan ki hain raahen
Muhabbat bhari is
Jahan ki hain raahen
Jinhen dekh kar kho
Gayi hain nigahen
Ye halaki hawa
Layi kaisa nasha
Na raha hosh itana
Mera dil kahan hai
Kahaan le chale ho
Bata do musafir
Sitaaron se aage
Ye kaisa jahan hai
Khayalon ki manzil
Ye khwabon ki mahafil
Samajh men na aaye
Ye duniya kahan hai.

Leave a Reply