Fifties(1950-59)

Kali Ke Roop Mein (Nau Do Gyarah)

By  | 



Song Info

Movie/Album: Nau Do Gyarah

Release: 1957

Music Director: S.D.Burman

Lyrics Majrooh Sultanpuri

Singers: Asha Bhonsle and Mohammed Rafi

Lyrics in Hindi

कली के रूप में चली हो धूप में कहाँ
सुनो जी महरबाँ, होगे न तुम जहाँ, वहाँ

क्या है कहो जळी, कि हम तो हैं चल दी
अपने दिल के सहारे
अब न रुकेंगे तो दुखने लगेंगे
पाँव नाज़ुक तुम्हारे
राह में हो के गुम, जाओगे छुप के तुम, कहाँ
सुनो जी महरबाँ, होगे न तुम जहाँ, वहाँ

चल न सकेंगे सम्भल न सकेंगे
हम तुम्हारी बला से
मिला न सहारा तो आओगी दुबारा
खिंच के मेरी सदा पे
छोड़ो दीवानापन, अजी जनाब मन कहाँ
सुनो जी महरबाँ, होगे न तुम जहाँ, वहाँ

मानोगे न तुम भी तो ए लो चले हम भी
अब हम.एन न बुलाना
जाते हो तो जाओ, अदायें न दिखाओ
दिल न होगा निशाना
हवा पे बैठ के, चले हो ऐंठ के, कहाँ
सुनो जी महरबाँ, होगे न तुम जहाँ, वहाँ

Song Trivia

Official Video

Other Renditions

No video file selected

Avid music lover and Dev Anand fan

Leave a Reply