Dance

Kam Nahin Sharab Se Shokhiyan (Aag Aur Daag)

By  | 

Movie: Aag Aur Daag
Release:  1970
Featuring Actors: Joy Mukherjee
Music Directors: Datta Naik
Lyrics: S. H. Bihari
Singers: Asha Bhosle
Trivia:

Lyrics in Hindi

कम नहीं शराब से शोखियाँ
शबाब की ये हमारी मस्तिया
वो ऐडा जनाब की कम नहीं शराब से

प्यार के नशे में हम जिधर निकल गए
हर कदम पे आशिकों के दिल मचल गए
प्यार के नशे में हम जिधर निकल गए
हर कदम पे आशिकों के दिल मचल गए
इस ऐडा से मस्तियो में झुमके चले
यहाँ वहा पे सेकंडो जावा फिसल गए
कम नहीं शराब से शोखियाँ
शबाब की ये हमारी मस्तिया
वो ऐडा जनाब की कम नहीं शराब से

ज़िन्दगी है अपनी ऐसे प्यार के बिना
जैसे कोई बैग हो बहार के बिना
ज़िन्दगी है अपनी ऐसे प्यार के बिना
जैसे कोई बैग हो बहार के बिना
या के ऐसा फूल जिसमे दिलकशी न हो
या दुल्हन सुहाग में सिंगर के बिना
कम नहीं शराब से शोखियाँ
शबाब की ये हमारी मस्तिया
वो ऐडा जनाब की कम नहीं शराब से

ऐसी दिल की महफ़िल मिलेगी फिर कहा
हुस्न है शबाब है शराब है यहाँ
ऐसी दिल की महफ़िल मिलेगी फिर कहा
हुस्न है शबाब है शराब है यहाँ
जीतन चाहे जो यहाँ बेहक के देख ले
हर खता माफ़ है हजूर की यहाँ
कम नहीं शराब से शोखियाँ
शबाब की ये हमारी मस्तिया
वो ऐडा जनाब की कम नहीं शराब से.


Lyrics in English

Kam nahin sharab se shokhiyan
Shabab ki ye hamari mastiya
Wo ada janab ki kam nahin sharab se

Pyar ke nashe mein hum jidhar nikal gaye
Har kadam pe aashiqo ke dil machal gaye
Pyar ke nashe mein hum jidhar nikal gaye
Har kadam pe aashiqo ke dil machal gaye
Is ada se mastiyo me jhumke chale
Yaha waha pe sekndo jawa fisal gaye
Kam nahin sharab se shokhiyan
Shabab ki ye hamari mastiya
Wo ada janab ki kam nahin sharab se

Zindagi hai apni aise pyar ke bina
Jaise koi bag ho bahar ke bina
Zindagi hai apni aise pyar ke bina
Jaise koi bag ho bahar ke bina
Ya ke aisa phul jisme dilkashi na ho
Ya dulhan suhag me singar ke bina
Kam nahin sharab se shokhiyan
Shabab ki ye hamari mastiya
Wo ada janab ki kam nahin sharab se

Aisi dil ki mehfile milegi phir kaha
Husn hai shabab hai sharab hai yaha
Aisi dil ki mehfile milegi phir kaha
Husn hai shabab hai sharab hai yaha
Jitn achahe jo yaha behak ke dekh le
Har khata maf hai hajur ki yaha
Kam nahin sharab se shokhiyan
Shabab ki ye hamari mastiya
Wo ada janab ki kam nahin sharab se.

Leave a Reply