Funny

Khit Pit Khit Kare Aur Kat Kat Ke Mare (Phir Kab Milogi)

By  | 

Song Info

Movie: Phir Kab Milogi

Release: 1974



Featuring Actors: Biswajeet, Mala Sinha

Music Director: R.D.Burman

Lyrics: Majrooh Sultanpuri

Singers: Kishore Kumar

Trivia:

Lyrics in Hindi

खिटपिट किट करे और कट कट के मरे
प्यार से ये जहाँ काहे ना मिलके रहे
खिटपिट किट करे और कट कट के मरे
प्यार से ये जहाँ काहे ना मिलके रहे
खिटपिट खिटपिट किट करे और कट कट के मरे

कहने को तो हम है बाबू
पर जेब है खाली अक्सर
है दर्द से बोझल कुर्सी
आहों से भरा है दफ़्तर
सवेरे को मुख पे खुशी थी
ज़रा सी लबों पे सुहानी हँसी थी
सवेरे को मुख पे खुशी थी
ज़रा सी लबों पे सुहानी हँसी थी
शाम को बाबू जब घर चले अपने
फाइलों के नीचे दब गये सपने
खाली खाली आँखे है बेचारा हैरान है
खाली खाली आँखे है बेचारा हैरान है
सर झुकाए हुए पलकों मे धूल भरे
सर झुकाए हुए पलकों मे धूल भरे
खिटपिट खिटपिट किट करे और कट कट के मरे
प्यार से ये जहाँ काहे ना मिलके रहे
खिटपिट किट करे और कट कट के मरे

भरपूर है जिसकी मुठ्ठी
दुनिया मे वही है तगड़ा
पैसे के लिए हर उलझन
पैसे के लिए हर उलझन
जो कहो कर गुज़रता है लोगों
जिसे देखो पैसो पर मरता है लोगों
जाने क्यू पैसे पर मैं भी मरता हूँ
जो ना करना चाहूं वो भी करता हूँ
अब समझा मैं फिर भी क्यू दिल को इत्मिनान है
अब समझा मैं फिर भी क्यू दिल को इत्मिनान है
हम बुरे हैं तो क्या जग मे सभी हैं बुरे
हम बुरे हैं तो क्या जग मे सभी हैं बुरे
खिटपिट खिटपिट किट करे और कट कट के मरे
प्यार से ये जहाँ काहे ना मिलके रहे
खिटपिट किट करे और कट कट के मरे

Lyrics in English

khitpit khit kare aur kat kat ke mare
pyar se ye jahan kaahe na milke rahe
khitpit khit kare aur kat kat ke mare
pyar se ye jahan kaahe na milke rahe
khitpit khitpit khit kare aur kat kat ke mare

kahne ko to hum hai babu
par jeb hai khali aksar
hai dard se bojhal kursi
aahon se bhara hai daftar
savere ko mukh pe khushi thi
jara si labon pe suhani hansi thi
savere ko mukh pe khushi thi
jara si labon pe suhani hansi thi
sham ko babu jab ghar chale apne
filon ke niche dab gaye sapne
khali khali aankhe hai bechara hairan hai
khali khali aankhe hai bechara hairan hai
sar jhukaye huye palkon me dhul bhare
sar jhukaye huye palkon me dhul bhare
khitpit khitpit khit kare aur kat kat ke mare
pyar se ye jahan kaahe na milke rahe
khitpit khit kare aur kat kat ke mare

bharpur hai jiski muththi
duniya me wahi hai tagda
paise ke liye har uljhan
paise ke liye har uljhan
jo kaho kar guzarta hai logon
jise dekho paiso par marta hai logon
jane kyu paise par main bhi marta hun
jo na karna chahun wo bhi karta hun
ab samjha main phir bhi kyu dil ko itminaan hai
ab samjha main phir bhi kyu dil ko itminaan hai
hum bure hain to kya jag me sabhi hain bure
hum bure hain to kya jag me sabhi hain bure
khitpit khitpit khit kare aur kat kat ke mare
pyar se ye jahan kaahe na milke rahe
khitpit khit kare aur kat kat ke mare

Official Video

Other Video

No video file selected

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *