Romantic

Khuli Palak Mein Jhootha Gussa (Professor)

By  | 



Song Info

Movie/Album: Professor

Release: 1962

Music Director: Shankar Jaikishan

Lyrics Shailendra

Singers: Mohammed Rafi

Lyrics in Hindi

ज़रा ठहरो
सदा मेरे दिल की ज़रा सुनते जाना

खुली पलक में झूठा ग़ुस्सा, बंद पलक में प्यार
जीना भी मुश्किल, मरना भी मुश्किल
आँखों में इक़रार की झलकी, होंठों पे इनकार
जीना भी मुश्किल, मरना भी मुश्किल

जिस दिन से देखा तुमको, तुम लगे मुझे अपने-से
और आके रहे आँखों में, एक मनचाहे सपने-से
समझ न आए, क्या जीता मैं और गया क्या हार
जीना भी मुश्किल, मरना भी मुश्किल
खुली पलक में झूठा ग़ुस्सा …

तुम प्यार छुपाके हारे, मैं प्यार जताके हारा
अब तो सारी दुनिया पे, ज़ाहिर है हाल हमारा
पहुँचके इस मंज़िल पे, लौटना अब तो है दुश्वार
जीना भी मुश्किल, मरना भी मुश्किल
खुली पलक में झूठा ग़ुस्सा …

इसे मेरी बात ना समझो, क्या बनता है बात बनाके
कुछ कहना था मेरे दिल का, जाता हूँ वही दोहराके
ना हो यक़ीं तो पढ़कर देखो आँखों में एक बार
जीना भी मुश्किल, मरना भी मुश्किल
खुली पलक में झूठा ग़ुस्सा …

Song Trivia

Official Video

Other Renditions

No video file selected

Avid music lover and Dev Anand fan

Leave a Reply