Dance

Ki Ghungru Tut Gayae (Dharam Kanta)

By  | 

Song Info

Movie: Dharam Kanta

Release: 1982



Featuring Actors: Sulakshna Pandit

Music Director: Naushad

Lyrics: Majrooh Sultanpuri

Singers: Asha Bhosle

Trivia:

Lyrics in Hindi

सलीम तेरे जहाँ की हर रसम छोड दी है
शर्मो हया की मैने जंजीर तोड़ दी है
मैने छोड़ दी सबकी लाज़ मैने छोड़ दी सबकी लाज़
मै ऐसा झूम के नाची आज
की घुंघरू टूट गये की घुंघरू टूट गये

मैने छोड़ दी सबकी लाज़ मैने छोड़ दी मैने छोड़ दी
मैने छोड़ दी सबकी लाज़ मै ऐसा झूम के नाची आज
के घुंघरू टूट गये के घुंघरू टूट गये
टकराई जो अपने दिलबर से दिल धड़का मोहब्बत के दर से
टकराई जो अपने दिलबर से दिल धड़का मोहब्बत के दर से
बाहों में जो उसने घेर लिया कुछ कर ना सकी मूह फेर लिया
बाहों में जो उसने घेर लिया कुछ कर ना सकी मूह फेर लिया
मोहे लूट गया एक चोर की पड़ी मै ऐसी कमजोर
की घुंघरू टूट गये की घुंघरू टूट गये

क्यू आज जमाने से डरना रुसवाई का गुम भी क्या करना
क्यू आज जमाने से डरना रुसवाई का गुम भी क्या करना
हसना है के आँसू पीना है एक रात मुझे तो जीना है
हसना है के आँसू पीना है एक रात मुझे तो जीना है
मै चली पिया की ओर जवानी ऐसी है मूह ज़ोर
की घुंघरू टूट गये की घुंघरू टूट गये

रहता था जो मेरे ख्वाबो में तस्वीर थी जिसकी आँखो में
रहता था जो मेरे ख्वाबो में तस्वीर थी जिसकी आँखो में
बजे है कहीं भी शहनाई मै समझी मिलन की रात आई
बजे है कहीं भी शहनाई मै समझी मिलन की रात आई
मै ऐसी हुई बेहाल मै ऐसी हुई बेहाल
कुछ ऐसी उलझी मेरी चल की घुंघरू टूट गये
घुंघरू रे घुंघरू रे घुंघरू रे
की घुंघरू टूट गये

कुछ देर का ये अफ़साना है बस दिल को यही समझना है
कुछ देर का ये अफ़साना है बस दिल को यही समझना है
जंजीर मै जिससे घायल थी दुनिया की नज़र में पायल थी
जंजीर मै जिससे घायल थी दुनिया की नज़र में पायल थी
वो कट गयी आज जंजीर मैने चलाया ऐसा तीर
की घुंघरू टूट गये मैने छोड़ दी सबकी लाज़
मै ऐसा झूम के नाची आज की घुंघरू टूट गये
की घुंघरू टूट गये

Lyrics in English

salim tere jahan ki har rasam chhod di hai
sharmo haya ki maine janjir tod di hai
maine chhod di sabki laaz maine chhod di sabki laaz
mai aisa jhum ke nachi aaj
ki ghunghru tut gaye ki ghunghru tut gaye

maine chhod di sabki laaz maine chhod di maine chhod di
maine chhod di sabki laaz mai aisa jhum ke nachi aaj
ke ghunghru tut gaye ke ghunghru tut gaye
takrayi jo apne dilbar se dil dhadka mohabbat ke dar se
takrayi jo apne dilbar se dil dhadka mohabbat ke dar se
baho mein jo usne gher liya kuch kar na saki muh fer liya
baho mein jo usne gher liya kuch kar na saki muh fer liya
mohe lut gaya ek chor ki padi mai aisi kamjor
ki ghunghru tut gaye ki ghunghru tut gaye

kyu aaj jamane se darna ruswayi ka gum bhi kya karna
kyu aaj jamane se darna ruswayi ka gum bhi kya karna
hasna hai ke aasun pina hai ek raat mujhe to jina hai
hasna hai ke aasun pina hai ek raat mujhe to jina hai
mai chali piya ki or jawani aisi hai muh jor
ki ghunghru tut gaye ki ghunghru tut gaye

rahta tha jo mere khwabo mein taswir thi jiski aankho mein
rahta tha jo mere khwabo mein taswir thi jiski aankho mein
baje hai kahin bhi shehnayi mai samjhi milan ki raat aayi
baje hai kahin bhi shehnayi mai samjhi milan ki raat aayi
mai aisi hui behal mai aisi hui behal
kuch aisi uljhi meri chal ki ghunghru tut gaye
ghunghru re ghunghru re ghunghru re
ki ghunghru tut gaye

kuchh der ka ye afsana hai bas dil ko yahi samjhana hai
kuchh der ka ye afsana hai bas dil ko yahi samjhana hai
janjir mai jisse ghayal thi dunia ki najar mein payal thi
janjir mai jisse ghayal thi dunia ki najar mein payal thi
wo kat gayi aaj janjir maine chalaya aisa teer
ki ghunghru tut gaye maine chhod di sabki laaz
mai aisa jhum ke nachi aaj ki ghunghru tut gaye
ki ghunghru tut gaye

Official Video

Other Video

No video file selected

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *