Drama

Kya Kya Nazare Dikhati Hai (Ghunghat)

By  | 

Movie: Ghunghat
Release: 1960
Featuring Actors: Bharat Bhushan, Bina Rai
Music Director: Ravi
Lyrics: Shakeel Badayuni
Singer:  Asha Bhosle, Mahendra Kapoor.
Trivia:

Lyrics in Hindi

क्या क्या नज़ारे
दिखती है अंखिया
क्या क्या नज़ारे
दिखती है अंखिया
कभी हसती है
कभी रुलाती है
कभी दीवाना
बनती है अंकिया
क्या क्या नज़ारे
दिखती है अंखिया
क्या क्या नज़ारे
दिखती है अंखिया

अँखियो के होते
है दोरे गुलाबी
अँखियो के होते
है दोरे गुलाबी
मस्ती से देखे
तो करदे शराबी
झूठी तो हो जाये
दिल की खराबी
झूठी तो हो जाये
दिल की खराबी
रातो की निंदिया
उड़ाती है अंखिया
रातो की निंदिया
उड़ाती है अंखिया
कभी हसती है
कभी रुलाती है
कभी दीवाना
बनती है अंकिया
क्या क्या नज़ारे
दिखती है अंखिया

दम भर में होती
है अंखिया पराई
दम भर में होती
है अंखिया पराई
अपनों से करती है
ये बेवफाई
देते है नैनो
के मरे दुहाई
देते है नैनो
के मरे दुहाई
ऐसा निशाना
लगाती है अंखिया
ऐसा निशाना
लगाती है अंखिया
कभी हसती है
कभी रुलाती है
कभी दीवाना
बनती है अंकिया
क्या क्या नज़ारे
दिखती है अंखिया
क्या क्या नज़ारे
दिखती है अंखिया

दुनिआ में रह
कर दुनिआ न देखे
ये कैसी मज़बूरी
हमको भी कोई
आँखे दे दे
करदे आशा पूरी
मजबूर ऐसे भी
है जिंदगी में
जिनको अँधेरा
मिला रौशनी में
जिनके गुजरते है
दिन बेकाशी में
जिनके गुजरते है
दिन बेकाशी में
दर दर की ठोकर
खिलाती है अंखिया
दर दर की ठोकर
खिलाती है अंखिया
कभी हसती है
कभी रुलाती है
कभी दीवाना
बनती है अंकिया
क्या क्या नज़ारे
दिखती है अंखिया
क्या क्या नज़ारे
दिखती है अंखिया.


Lyrics in English

Kya kya nazaare
Dikhati hai ankhiya
Kya kya nazaare
Dikhati hai ankhiya
Kabhi hasati hai
Kabhi rulati hai
Kabhi diwana
Banati hai ankiya
Kya kya nazaare
Dikhati hai ankhiya
Kya kya nazaare
Dikhati hai ankhiya

Ankhiyo ke hote
Hai dore gulabi
Ankhiyo ke hote
Hai dore gulabi
Masti se dekhe
To karde sharabi
Jhuthi to ho jaye
Dil ki kharabi
Jhuthi to ho jaye
Dil ki kharabi
Rato ki nindiya
Udati hai ankhiya
Rato ki nindiya
Udati hai ankhiya
Kabhi hasati hai
Kabhi rulati hai
Kabhi diwana
Banati hai ankiya
Kya kya nazaare
Dikhati hai ankhiya

Dam bhar me hoti
Hai ankhiya parayi
Dam bhar me hoti
Hai ankhiya parayi
Apno se karti hai
Ye bewafai
Dete hai naino
Ke mare duhai
Dete hai naino
Ke mare duhai
Aisa nishana
Lagati hai ankhiya
Aisa nishana
Lagati hai ankhiya
Kabhi hasati hai
Kabhi rulati hai
Kabhi diwana
Banati hai ankiya
Kya kya nazaare
Dikhati hai ankhiya
Kya kya nazaare
Dikhati hai ankhiya

Dunia me rah
Kar dunia na dekhe
Ye kaisi majburi
Hamko bhi koi
Aankhe de de
Karde aasha puri
Majbur aise bhi
Hai jindagi me
Jinko andhera
Mila roshni me
Jinke gujarte hai
Din bekashi me
Jinke gujarte hai
Din bekashi me
Dar dar ki thokar
Khilati hai ankhiya
Dar dar ki thokar
Khilati hai ankhiya
Kabhi hasati hai
Kabhi rulati hai
Kabhi diwana
Banati hai ankiya
Kya kya nazaare
Dikhati hai ankhiya
Kya kya nazaare
Dikhati hai ankhiya.

Leave a Reply