Drama

Maiya Ke Bina Beta (Ghar Ki Laaj)

By  | 

Movie: Ghar Ki Laaj
Release: 1979
Featuring Actors: Moushumi Chatterjee, K.C. Dey
Music Director: Ravindra Jain
Lyrics:  Ravindra Jain
Singer:  Mahendra Kapoor
Trivia:

Lyrics in Hindi

मैया के बिना बेटा
मैया के बिना बेटा
जैसे पंछी कते पर का
न घर का न बहार का
हो मैया के बिना बेटा

समय से भोजन तक न मिले
उसे लोरी कौन सुनाये रे
खिलने की फल्ने की उम्र में हाय
फुलवा मुरझा जाये रे
वो फुलवा मुरझा जाये रे
माता के लिए जो चन्दन
अपनी माता के लिए जो चन्दन
वही दर्द औरो के सर का
न घर का न बहार का
मैया के बिना बेटा

हर कोई उसको आँखे दिखायी
हर कोई धुत्करे
एक आंचल की छाया बिना
जग सारा बैरी हुआ रे
उसे हर कोई धुत्करे
मोल कोई न समझा
यहाँ मोल कोई न समझा
अबला की धरोहर का
न घर का न बहार का
मैया के बिना बेटा

छोटा सा एक शब्द है माँ पर
बड़ी है ज़िम्मेदारी
बच्चों की खातिर हर दुःख
हसकर सहती है माँ बेचारी
दुःख सहती है माँ बेचारी
बाकि सब रिश्तों में
हो बाकि सब रिश्तों में
प्यार होता है ऊपर का
न घर का न बहार का
मैया के बिना बेटा

धुप सही बरसते निकली
सोने की देह गलै है
तब कहीं जाके बेटे को माँ
इस मंज़िल पर ला पाई है
इस मंज़िल पर ला पाई है
दुखिया के बेटे ने
एक दुखिया के बेटे ने
पद पाया है आदर का
न घर न बहार का
मैया के बिना बेटा

बिछड़े हुए मिल जाते है लेकिन
देर बड़ी हो जाती है
एक छोटी सी भूल भी हमको
कितना खून रुलाती है
हमें कितना खून रुलाती है
रह जाता है मन को
रह जाता है मन को
पछतावा उमरभर का
न घर का न बहार का
हो मैया के बिना बेटा
जैसे पंछी कते पर का
न घर का न बहार का
मैया के बिना बेटा.


Lyrics in English

Maiya ke bina beta
Maiya ke bina beta
Jaise panchhi kate par ka
Na ghar ka na bahar ka
Ho maiya ke bina beta

Samay se bhojan tak na mile
Use lori kaun sunaye re
Khilne ki falne ki umar me haye
Phulwa murjha jaye re
Wo phulwa murjha jaye re
Mata ke liye jo chandan
Apni mata ke liye jo chandan
Wahi dard auro ke sar ka
Na ghar ka na bahar ka
Maiya ke bina beta

Har koi usko aankhe dikhaye
Har koi dhutkare
Ek aachal ki chhaya bina
Jag sara bairi hua re
Use har koi dhutkare
Mol koi na samjha
Yaha mol koi na samjha
Abla ki dharohar ka
Na ghar ka na bahar ka
Maiya ke bina beta

Chota sa ek shabd hai maa par
Badi hai zimmedari
Bacho ki khatir har dukh
Haskar sahti hai maa bechari
Dukh sahti hai maa bechari
Baki sab rishto me
Ho baki sab rishto me
Pyar hota hai upar ka
Na ghar ka na bahar ka
Maiya ke bina beta

Dhup sahi barsate nikali
Sone ki deh galai hai
Tab kahi jake bete ko maa
Is manzil par la payi hai
Is manzil par la payi hai
Dukhiya ke bete ne
Ek dukhiya ke bete ne
Pad paya hai aadar ka
Na ghar na bahar ka
Maiya ke bina beta

Bichhde hue mil jate hai lekin
Der badi ho jati hai
Ek choti si bhul bhi hamko
Kitna khun rulati hai
Hame kitna khun rulati hai
Rah jata hai man ko
Rah jata hai man ko
Pachtawa umarbhar ka
Na ghar ka na bahar ka
Ho maiya ke bina beta
Jaise panchhi kate par ka
Na ghar ka na bahar ka
Maiya ke bina beta.

Leave a Reply