Fifties(1950-59)

Manzil Wahi Hai Pyar Ki (Kathputli)

By  | 



Song Info

Movie/Album: Kathputli

Release: 1957

Music Director: Shanker-Jaikishan

Lyrics Shailendra

Singers: Subir Sen

Lyrics in Hindi

मंज़िल वही है प्यार की, राही बदल गए
सपनों की महफ़िल में हम-तुम नए
मंज़िल वही है प्यार की, राही बदल गए

दुनिया की नज़रों से दूर, जाते हैं हम-तुम जहाँ
उस देश की चाँदनी गाएगी ये दास्ताँ
मौसम था वो बहार का, दिल थे मचल गए
सपनों की महफ़िल में हम-तुम नए
मंज़िल वही है प्यार की, राही बदल गए

छुप ना सके मेरे राज़, नग़्मों में ढलने लगे
रोका था फिर भी ये दिल पहलू बदलने लगे
ये दिन ही कुछ अजीब थे, जो आज-कल गए
सपनों की महफ़िल में हम-तुम नए
मंज़िल वही है प्यार की, राही बदल गए


Song Trivia

Official Video

Other Renditions

No video file selected

Avid music lover and Dev Anand fan

Leave a Reply