Cabaret

Mehfil Soyi Aisa Koi (Intaqam)

By  | 

Song Info

Movie: Intaqam

Release: 1969



Featuring Actors: Helen, Sanjay Khan, Sadhana

Music Director: Laxmikant Pyarelal

Lyrics: Rajendar Krishan

Singers: Lata Mangeshkar

Trivia:

Lyrics in Hindi

महफ़िल सोई ऐसा कोई
महफ़िल सोई ऐसा कोई
होगा कहाँ जो समझे ज़ुबान मेरी आँखों की
महफ़िल सोई ऐसा कोई
होगा कहा जो समझे ज़ुबान मेरी आँखों की
महफ़िल सोई

रात गाती हुई गुनगुनाती हुई, बीत जाएगी यूँ मुस्कुराते हुए
रात गाती हुई गुनगुनाती हुई, बीत जाएगी यूँ मुस्कुराते हुए
सुबह का समा बुझेगा कहाँ, गये मेहमान जो कल थे यहाँ
महफ़िल सोई ऐसा कोई
होगा कहाँ जो समझे ज़ुबान मेरी आँखों की
महफ़िल सोई

आज थम के ग़ज़र दे रहा है खबर
कों जाने इधर आई ना सहर
आज थम के ग़ज़र दे रहा है खबर
कों जाने इधर आई ना सहर
किसको पता ज़िंदगी है क्या, टूट ही गया साथ ही तो था
महफ़िल सोई ऐसा कोई
होगा कहाँ जो समझे ज़ुबान मेरी आँखो की
महफ़िल सोई

Lyrics in English

Mehfil soi aisa koi
mehfil soi aisa koi
hoga kahan jo samjhe juban meri aankhon ki
mehfil soi aisa koi
hoga kaha jo samjhe juban meri aankhon ki
mehfil soi

raat gati hui gungunati hui, beet jayegi yun muskurate hue
raat gati hui gungunati hui, beet jayegi yun muskurate hue
subah ka sama bujhega kahan, gaye mehman jo kal the yahan
mehfil soi aisa koi
hoga kahan jo samjhe juban meri aankhon ki
mehfil soi

aaj tham ke gazar de raha hai khabar
kon jane idhar aayi na sahar
aaj tham ke gazar de raha hai khabar
kon jane idhar aayi na sahar
kisko pata zindagi hai kya, toot hi gaya sath hi to tha
mehfil soi aisa koi
hoga kahan jo samjhe juban meri aankho ki
mahfil soi

Official Video

Other Video

No video file selected

Leave a Reply