Philosophical

Raahi Manva Dukh Ki Chinta (Dosti)

By  | 



Song Info

Movie/Album: Dosti

Release: 1964

Music Director: Laxmikant-Pyarelal

Lyrics Majrooh Sultanpuri

Singers: Mohammed Rafi

Lyrics in Hindi

दुःख हो या सुख

जब सदा संग रहे ना कोय

फ़िर दुःख को अपनाईये

के जाए तो दुःख ना होय

राही मनवा दुःख की चिंता क्यूँ सताती है

दुःख तो अपना साथी है

सुख है इक छाँव ढलती, आती है, जाती है

दुःख तो अपना साथी है

दूर है मंजिल दूर सही

प्यार हमारा क्या कम है

पग में काँटे लाख सही

पर ये सहारा क्या कम है

हमराह तेरे कोई अपना तो है

सुख है इक छाँव ढलती…

दुःख हो कोई तब जलते हैं

पथ के दीप निगाहों में

इतनी बड़ी इस दुनिया की

लंबी अकेली राहों में

हमराह तेरे कोई अपना तो है

सुख है इक छाँव…

Song Trivia

Official Video

Other Renditions

No video file selected

Leave a Reply