Drama

Raat Aayi Hai (Amrit Manthan)

By  | 

Movie: Amrit Manthan
Release:  1934
Featuring Actors: Chandra Mohan, Nalini Tarkhad
Music Directors: Keshavrao Bhole
Lyrics:
Singers: Shanta Apte
Trivia:

Lyrics in Hindi

रात आयी है नया
रंग जमाने के लिए
रात आयी है नया
रंग जमाने के लिए
लेके आराम का पैग़ाम
ज़माने के लिए
लेके आराम का पैग़ाम
ज़माने के लिए
गुनगुनाती हुयी धीरे
से यह आती है सदा
गुनगुनाती हुयी धीरे
से यह आती है सदा
थपकियाँ माँ की तरह
दे के सुलाने के लिए
थपकियाँ माँ की
तरह दे के सुलाने के
रात आयी है नया
रंग जमाने के लिए
कैसे बेनज़मी से बिखरे
हैं यह लाल ो गोहार
कैसे बेनज़मी से बिखरे
हैं यह लाल ो गोहार
आसमान क्या तेरी दौलत
है लुटाने के लिए
आसमान क्या तेरी दौलत
है लुटाने के लिए
रात आयी है नया
आआ आआ आए

रात आ
रात आयी है नया
रंग जमाने के लिए
क्या ही अच्छा है
यह बचपन का
ज़माना भी यहाँ आ आ आ
क्या ही अच्छा है
यह बचपन का
ज़माना भी यहाँ आ आ आ
क्या ही अच्छा है
यह बचपन का
ज़माना भी यहाँ
आ आ आ आ
क्या ही अच्छा है
यह बचपन का
ज़माना भी यहाँ
मौज करने के लिए
खेलने खाने के लिए
मौज करने के लिए
खेलने खाने के लिए
रात आयी है नया
रंग जमाने के लिए
लेके आराम का पैग़ाम
ज़माने के लिए
रात आयी है नया
रंग जमाने के लिए.


Lyrics in English

Raat aayi hai naya
Rang jamaane ke liye
Raat aayi hai naya
Rang jamaane ke liye
Leke aaraam ka paighaam
Zamane ke liye
Leke aram ka paighaam
Zamane ke liye
Gungunaati huyi dheere
Se yeh aati hai sadaa
Gungunati huyi dheere
Se yeh aati hai sadaa
Thapkiyaan maa ki tarah
De ke sulaane ke liye
Thapkiyaan maa ki
Tarah de ke sulane ke
Raat aayi hai naya
Rang jamaane ke liye
Kaise benazmi se bikhre
Hain yeh laal o gohar
Kaise benazmi se bikhre
Hain yeh laal o gohar
Aasmaan kya teri daulat
Hai lutaane ke liye
Aasmaan kya teri daulat
Hai lutaane ke liye
Raat aayi hai naya
Aaaa aaaa aaa

Raat aa
Raat aayi hai naya
Rang jamaane ke liye
Kya hi achha hai
Yeh bachpan ka
Zamaana bhi yaha aa aa aa
Kya hi achha hai
Yeh bachpan ka
Zamaana bhi yaha aa aa aa
Kya hi achha hai
Yeh bachpan ka
Zamaana bhi yaha
Aa aa aa aa
Kya hi achha hai
Yeh bachpan ka
Zamaana bhi yaha
Mauj karne ke liye
Khelne khaane ke liye
Mauj karne ke liye
Khelne khaane ke liye
Raat aayi hai naya
Rang jamaane ke liye
Leke aram ka paighaam
Zamane ke liye
Raat aayi hai naya
Rang jamaane ke liye.

Leave a Reply