Mujra

Rehte The Kabhi Jinke (Mamta)

By  | 

Song Info

Movie/Album: Mamta



Release: 1966

Music Director: Roshan
Lyrics Majrooh Sultanpuri
Singers: Lata Mangeshkar

रहते थे कभी जिनके दिल में
हम जान से भी प्यारों की तरह
बैठे हैं उन्ही के कूचे में
हम आज गुनहगारों की तरह

दावा था जिन्हें हमदर्दी का
खुद आके न पूछा हाल कभी
महफ़िल में बुलाया है हम पे
हँसने को सितमगारों की तरह
रहते थे…

बरसों से सुलगते तन मन पर
अश्कों के तो छींटे दे ना सके
तपते हुए दिल के ज़ख्मों पर
बरसे भी तो अंगारों की तरह
रहते थे…

सौ रुप धरे जीने के लिये
बैठे हैं हज़ारों ज़हर पिये
ठोकर ना लगाना हम खुद हैं
गिरती हुई दीवारों की तरह
रहते थे…

Song Trivia

Official Video

No video file selected

Avid music lover and Dev Anand fan

1 Comment

    Leave a Reply