Drama

Seedhi Raah (Anyay Hi Anyay)

By  | 

Movie: Anyay Hi Anyay
Release:  1997
Featuring Actors: Madan Jain, Archana Puran Singh
Music Directors: Rahul Dev Burman
Lyrics: Rajesh Johri
Singers: Kumar Sanu
Trivia:

Lyrics in Hindi

सीधी राह चला फिर भी चल न सका
सीधी राह चला फिर भी चल न सका
क्या माँगा था दुनिया से पाया मैंने क्या
सीधी राह चला फिर भी चल न सका
क्या माँगा था दुनिया से पाया मैंने क्या
सचाई के आंचल में
सचाई के आंचल में
सिसक रहा है क्या अन्याय ही अन्याय
अन्याय ही अन्याय

ये खामोश धुआ बिखरा यहाँ वह
ये खामोश धुआ बिखरा यहाँ वह
माँ के बदले लौ मई और कहा से माँ
ये खामोश धुआ बिखरा यहाँ वह
माँ के बदले लौ मई ू कहा से माँ
आँसू मेरे मांग रहे है
आँसू मेरे मांग रहे है
अंगारों से न्याय
अन्याय ही अन्याय

सपने टूट गए अपने रूठ गए
सपने टूट गए अपने रूठ गए
मेरे दिल की बस्ती को वहसि लुट गए
सपने टूट गए अपने रूठ गए
मेरे दिल की बस्ती को वहसि लुट गए
जीवन के दोराहे पर
जीवन के दो रहे पर
टूट चूका है अन्याय
अन्याय ही अन्याय

क्या इंसाफ है ये क्या कानून है ये
क्या इंसाफ है ये क्या कानून है ये
कैसे इसका यकी करू खुद मजनूर है ये
क्या इंसाफ है ये क्या कानून है ये
कैसे इसका यकी करू खुद मजनूर है ये
घायल किसी परिंदे सा
घायल किसी परिंदे सा
तड़प रहा है यार
अन्याय ही अन्याय


Lyrics in English

Seedhi raah chala phir bhi chal na saka
Seedhi raah chala phir bhi chal na saka
Kya manga tha duniya se paya maine kya
Seedhi raah chala phir bhi chal na saka
Kya manga tha duniya se paya maine kya
Sachai ke aachal mein
Sachai ke aachal mein
Sisak raha hai kya anyay hi anyay
Anyay hi anyay, anyay hi anyay

Ye khamosh dhua bikhra yaha waha
Ye khamosh dhua bikhra yaha waha
Maa ke badle lau mai or kaha se maa
Ye khamosh dhua bikhra yaha waha
Maa ke badle lau mai oo kaha se maa
Aasu mere mang rahe hai
Aasu mere mang rahe hai
Angaro se nyay
Anyay hi anyay, anyay hi anyay

Sapne tut gaye apne ruth gaye
Sapne tut gaye apne ruth gaye
Mere dil ki basti ko wahsi lut gaye
Sapne tut gaye apne ruth gaye
Mere dil ki basti ko wahsi lut gaye
Jeevan ke dorahe par
Jeevan ke do rahe par
Tut chuka hai anyay
Anyay hi anyay, anyay hi anyay

Kya insaf hai ye kya kanun hai ye
Kya insaf hai ye kya kanun hai ye
Kaise iska yaki karu khud majnur hai ye
Kya insaf hai ye kya kanun hai ye
Kaise iska yaki karu khud majnur hai ye
Ghayal kisi parinde sa
Ghayal kisi parinde sa
Tadap raha hai yar
Anyay hi anyay, anyay hi anyay.

Leave a Reply