Drama

Simti Hui Yeh Ghadiyan (Chambal Ki Kasam)

By  | 

Movie: Chambal Ki Kasam
Release: 1980
Featuring Actors: Raaj Kumar, Shatrughan Sinha, Moushumi Chatterjee
Music Directors: Mohammed Zahur Khayyam
Lyrics: Sahir Ludhianvi
Singers: Lata Mangeshkar, Mohammed Rafi
Trivia:

Lyrics in Hindi

xसिमटी हुई ये घड़ियाँ
फिर से न बिखर जाएँ
फिर से न बिखर जाएँ
इस रात में जी ले हम
इस रात में मर जाएँ
इस रात में मर जाएँ
सिमटी हुई ये घड़ियाँ

अब सुबहा न आ पाये
आओ ये दुआ मांगे
अब सुबहा न आ पाये
आओ ये दुआ मांगे
इस रात के हर पल से
राते ही उभर जाएँ
राते ही उभर जाएँ
सिमटी हुई ये घड़ियाँ

दुनिया की निगाहें अब
हम तक न पहुँच पायें
दुनिया की निगाहें अब
हम तक न पहुँच पायें
तारो में बसे चलकर
धरती में उतर जाएँ
धरती में उतर जाएँ
सिमटी हुई ये घड़ियाँ

हालात के तिरो से
छलनी है बदन अपने
हालात के तिरो से
छलनी है बदन अपने
पास ाओ के सिनो के
कुछ ज़ख्म तो भर जाएँ
कुछ ज़ख्म तो भर जाएँ
सिमटी हुई ये घड़ियाँ

आगे भी अन्धेरा है
पीछे भी अन्धेरा है
आगे भी अन्धेरा है
पीछे भी अन्धेरा है
अपनी है वही साँसे
जो साथ गुज़र जाएँ
जो साथ गुज़र जाएँ
सिमटी हुई ये घड़ियाँ

आ आ आ
हूँ हूँ हूँ
ये घड़ियाँ फिर से
हूँ हूँ हूँ
सिमटी हुई
हूँ हूँ हूँ
बिछड़ी हुई रूहों का
ये मेल सुहाना है
बिछड़ी हुई रूहों का
ये मेल सुहाना है
इस मेल का कुछ अहसान
जिसमे पे भी कर जाएँ
जिसमे पे भी कर जाएँ
सिमटी हुई ये घड़ियाँ

तराशे हुए जज़बों को
अब और न तरसाओ
तराशे हुए जज़बों को
अब और न तरसाओ
तुम शाने पे सर रख दो
हम बांहों में भर जाएँ
हम बांहों में भर जाएँ
सिमटी हुई ये घड़ियाँ.


Lyrics in English

Simati hui ye ghadiyaan
Phir se na bikhar jaayen
Phir se na bikhar jaayen
Is raat me ji le ham
Is raat me mar jaayen
Is raat me mar jaayen
Simati hui ye ghadiyaan

Ab subahaa na aa paaye
Aao ye duaa maange
Ab subahaa na aa paaye
Aao ye duaa maange
Is raat ke har pal se
Raate hi ubhar jaayen
Raate hi ubhar jaayen
Simati hui ye ghadiyaan

Duniyaa ki nigaahe ab
Ham tak na pahunch paayen
Duniyaa ki nigaahe ab
Ham tak na pahunch paayen
Taaro me base chalakar
Dharati me utar jaayen
Dharati me utar jaayen
Simati hui ye ghadiyaan

Haalaat ke tiro se
Chhalani hai badan apane
Haalaat ke tiro se
Chhalani hai badan apane
Paas aao ke sino ke
Kuchh zakhm to bhar jaayen
Kuchh zakhm to bhar jaayen
Simati hui ye ghadiyaan

Aage bhi andheraa hai
Pichhe bhi andheraa hai
Aage bhi andheraa hai
Pichhe bhi andheraa hai
Apani hai wohi saanse
Jo saath guzar jaayen
Jo saath guzar jaayen
Simati hui ye ghadiyaan

Aa aa aa
Hun hun hun
Ye ghadiyaan phir se
Hun hun hun
Simati hui
Hun hun hun
Bichhadi hui ruho kaa
Ye mel suhaanaa hai
Bichhadi hui ruho kaa
Ye mel suhaanaa hai
Is mel kaa kuchh ahasaan
Jisamo pe bhi kar jaayen
Jisamo pe bhi kar jaayen
Simati hui ye ghadiyaan

Tarase huye jazabo ko
Ab aur na tarasaao
Tarase huye jazabo ko
Ab aur na tarasaao
Tum shaane pe sar rakh do
Ham baanho me bhar jaayen
Ham baanho me bhar jaayen
Simati hui ye ghadiyaan.

Leave a Reply