Drama

Siraf Khiladi Badal Gaya (Dadagiri)

By  | 

Movie: Dadagiri
Release: 1987
Featuring Actors: Dharmendra, Govinda, Rati Agnihotri
Music Directors: Anu Malik
Lyrics: Hasrat Jaipuri
Singers: Anuradha Paudwal
Trivia:

Lyrics in Hindi

सिर्फ खिलाडी बदल गया
बाकी खेल पुराना हैं
आज तुम्हारे ज़ुल्म ओ सितम
का हमको क़र्ज़ चुकाना हैं
आज तुम्हारे ज़ुल्म ओ सितम
का हमको क़र्ज़ चुकाना हैं
सिर्फ खिलाडी बदल गया
सिर्फ खिलाडी बदल गया
बाकी खेल पुराना हैं
आज तुम्हारे ज़ुल्म ओ सितम
का हमको क़र्ज़ चुकाना हैं
आज तुम्हारे ज़ुल्म ओ सितम
का हमको क़र्ज़ चुकाना हैं
सिर्फ खिलाडी बदल गया
बाकी खेल पुराना हैं
सिर्फ खिलाडी बदल गया
बाकी खेल पुराना हैं

कैसी दुनिया कैसी
उल्फत कैसी रिश्तेदारी
खाक में आज मिला देगे
जूठी शान तुम्हारी
इस दौलत का नशा न
होगा मुँह के बल गिर जाओगे
मौत की जान ले के हटेगी
सुनलो जान तुम्हारी
साड़ी बाज़ी उलट गयी हैं
आज तुम्हे हराना हैं
साड़ी बाज़ी उलट गयी हैं
आज तुम्हे हराना हैं
इस कोड की ताल पे देखो
इस कोड की ताल पे देखो
तुमको खूब नाचना हैं
सिर्फ खिलाडी बदल गया
बाकी खेल पुराना हैं

जो भी दिया हैं क़र्ज़ा तुमने
क़र्ज़ अदा हम करते हैं
सामने तुम हो सामने
हम हैं फिर न
समझना डरते हैं
स्टिक से मार भगाए
ऐसा ज़माना आ ही गया
आज तुम्हारी हालत पे
हम झूम झूम के हसते हैं
कल तक तुमने हमें रुलाया
आज तुम्हे रुलाना हैं
कल तक तुमने हमें रुलाया
आज तुम्हे रुलाना हैं
वह ही घर हैं वो ही मंदिर
वह ही घर हैं वो ही मंदिर
देखो वही ठिकाना हैं
आज तुम्हारे ज़ुल्म ओ सितम
का हमको क़र्ज़ चुकाना हैं
आज तुम्हारे ज़ुल्म ओ सितम
का हमको क़र्ज़ चुकाना हैं
सिर्फ खिलाडी बदल गया
बाकी खेल पुराना हैं
सिर्फ खिलाडी बदल गया
बाकी खेल पुराना हैं
सिर्फ खिलाडी बदल गया
बाकी खेल पुराना हैं
सिर्फ खिलाडी बदल गया
बाकी खेल पुराना हैं.


Lyrics in English

Sirf khiladi badal gaya
Baaki khel purana hain
Aaj tumhare zulm o sitam
Ka hamako karz chukana hain
Aaj tumhare zulm o sitam
Ka hamako karz chukana hain
Sirf khiladi badal gaya
Sirf khiladi badal gaya
Baaki khel purana hain
Aaj tumhare zulm o sitam
Ka hamako karz chukana hain
Aaj tumhare zulm o sitam
Ka hamako karz chukana hain
Sirf khiladi badal gaya
Baaki khel purana hain
Sirf khiladi badal gaya
Baaki khel purana hain

Kaisi duniyaa kaisi
Ulfat kaisi rishtedaari
Khaaq mein aaj milaa dege
Joothi shaan tumhaari
Is daulata ka nashaa na
Hoga muh ke bal gir jaaoge
Maut ki jaan le ke hategi
Sunlo jaan tumhaari
Saari baazi ulat gayi hain
Aaj tumhe haraana hain
Saari baazi ulat gayi hain
Aaj tumhe haraana hain
Is kode ki taal pe dekho
Is kode ki taal pe dekho
Tumako khub nachana hain
Sirf khiladi badal gaya
Baaki khel purana hain

Jo bhi diya hain karzaa tumane
Karz adaa ham karate hain
Samane tum ho samane
Ham hain phir na
Samajhanaa darate hain
Stick se maar bhagaae
Aisaa zamana aa hi gaya
Aaj tumhaari haalat pe
Ham jhoom jhoom ke hasate hain
Kal tak tumane hume rulaya
Aaj tumhe rulana hain
Kal tak tumane hume rulaya
Aaj tumhe rulana hain
Vah hi ghar hain wo hi mandir
Vah hi ghar hain wo hi mandir
Dekho wahi thikana hain
Aaj tumhare zulm o sitam
Ka hamako karz chukana hain
Aaj tumhare zulm o sitam
Ka hamako karz chukana hain
Sirf khiladi badal gaya
Baaki khel purana hain
Sirf khiladi badal gaya
Baaki khel purana hain
Sirf khiladi badal gaya
Baaki khel purana hain
Sirf khiladi badal gaya
Baaki khel purana hain.

Leave a Reply