Drama

Sone Ki Katari (Chakkar Pe Chakkar)

By  | 

Movie: Chakkar Pe Chakkar
Release: 1977
Featuring Actors: Shashi Kapoor, Rekha
Music Directors: Kalyanji Anandji
Lyrics: Verma Malik
Singers: Asha Bhosle, Manna Dey
Trivia:

Lyrics in Hindi

अरे वाह वाह वाह वाह
है तुमने फेंकी और मैंने उठायी
बात समझ में दोनों के आयी
हुए तुमने फेंकी और मैंने उठायी
बात समझ में दोनों के आयी
देखो चलेगी न यहाँ पे तुम्हारी
क्या करलेगी ये सोने की कटोरी
अरे सोने की हो चाँदी की हो या पीतल की
कटारी फिर भी कतरी है
सोने की हो चाँदी की हो या पीतल की
कटारी फिर भी कतरी है
होठों पे न लाना बात दिल की तुम
ये जिंदगी तुम को तो प्यारी है

एक हंगामा महफ़िल में मच जायेगा
एक हंगामा महफ़िल में मच जायेगा
नाम होठों पे किसी का जब आयेगा
आज शीसा जो पत्थर से टकराएगा
आज शीसा जो पत्थर से टकराएगा
अपने आप वो अपनी मोत बुलवाएगा
मौत आ जाएगी तेरी के जब मर्जी होगी मेरी
जो अपने दंड दिखदूँगा तो छुटि हो जाये तेरी
सब तलवारे है प्यासी की आज बारी है तेरी
सब तलवारे है प्यासी की आज बारी है तेरी
सब तलवारों पे भरी मेरी सोने की है ये कटारी
सोने की कतरी हो या पीतल की जो बजी तोड़ी वो हरी है
अरे सोने की हो चाँदी की हो या पीतल की
कटारी फिर भी कतरी है

तेरी सूरत पे तेरी सूरत से जब पर्दा उठ जायेगा
राज़ तेरा यही आज खुल जायेगा
जलते शोलो को जो हाथ लग जायेगा
यद् रख लो वही खाक हो जायेगा
खाक में मिलाडुंगी मै तेरी जिंदगानी को
रहने नहीं दूंगा तेरी एक भी निसानी को
आज से ख़तम हुआ तेरा दाना पानी है
ख़तम कहा शुरू हुई ये कहानी है
तेरा जीना मरना तो आज मेरे हाथ है
मुझे डर कैसा जो उपरवाला साथ है
तू अपनी खेर बनाले तू अपनी जान बचाले
तुझे अब लिया घर है तेरी किस्मत का फेर है
के अब थोड़ी सी देर है
अब थोड़ी सी देर है शेर फिर होता शेर है
शेर फिर होता शेर है
शेर फिर शेर है.


Lyrics in English

Are wah wah wah wah
Ha tumne feki or maine uthayi
Bat samjh me dono ke ayi
Hoye tumne feki or maine uthayi
Bat samjh me dono ke ayi
Dekho chalegi na yaha pe tumhari
Kya karlegi ye sone ki katari
Are sone ki ho chandi ki ho ya pital ki
Katari phir bhi katari hai
Sone ki ho chandi ki ho ya pital ki
Katari phir bhi katari hai
Hotho pe na lana bat dil ki tum
Ye jindagi tum ko to pyari hai

Ek hangama mahfil me mach jayega
Ek hangama mahfil me mach jayega
Nam hotho pe kisi ka jab ayega
Aj shisa jo pathar se takrayega
Aj shisa jo pathar se takrayega
Apne ap wo apni mot bulwayega
Mot aa jayegi teri ke jab marji hogi meri
Jo apne dand dikhadunga to chhuti ho jaye teri
Sab talware hai pyasi ki aj bari hai teri
Sab talware hai pyasi ki aj bari hai teri
Sab talwaro pe bhari meri sone ki hai ye katari
Sone ki katari ho ya pital ki jo baji todi wo hari hai
Are sone ki ho chandi ki ho ya pital ki
Katari phir bhi katari hai

Teri surat pe teri surat se jab parda uth jayega
Raz tera yahi aj khul jayega
Jalte sholo ko jo hath lag jayega
Yad rakh lo wahi khak ho jayega
Khak me miladungi mai teri jindagani ko
Rahne nahi dunga teri ek bhi nisani ko
Aj se khatam hua tera dana pani hai
Khatam kaha suru hui ye kahani hai
Tera jina marna to aaj mere hath hai
Mujhe dar kaisa jo uparwala sath hai
Tu apni kher banale tu apni jan bachale
Tujhe ab liya gher hai teri kismat ka fer hai
Ke ab thodi si der hai, sher ko sawaser hai
Ab thodi si der hai sher phir hota sher hai
Sher phir hota sher hai, sher phir hota sher hai
Sher phir sher hai.

Leave a Reply