Drama

Title Song (Dharamyudh)

By  | 

Movie: Dharamyudh
Release: 1988
Featuring Actors: Sunil Dutt, Shatrughan Sinha
Music Directors: Rajesh Roshan
Lyrics:  Kulwant Jani
Singers: Shabbir Kumar
Trivia:

Lyrics in Hindi

धर्मयुद्ध धर्मयुद्ध
धर्मयुद्ध धर्मयुद्ध
अन्याय अन्याय जब न्याय को कुचले
पुण्य पाप को रोता है
देता है इतिहास गवाही
तब तब जग में होता है
धर्मयुद्ध धर्मयुद्ध
अन्याय अन्याय जब न्याय को कुचले
पुण्य पाप पे रोता है
देता है इतिहास गवाही
तब तब जग में होता है
धर्मयुद्ध धर्मयुद्ध
धर्मयुद्ध

प्रेम प्यार की दुनिया में जब
कड़वा बोला जाता है
अत्याचार के पलड़े में जब
सच को तोला जाता है
नेकी और बदी में जब जब
एक लड़ाई होती है
निर्बल की बलवन के हाथों
जब रुस्वाई होती है
जब नफरत के
जब नफरत के बीज सैतान
यहाँ पर होता है
देता है इतिहास गवाही
तब तब जग में होता है
धर्मयुद्ध धर्मयुद्ध
धर्मयुद्ध

किसी को खये कुल की चिंता
किसी को कुछ मालूम नहीं
और किसी की नज़र में कोई
मुजरिम है मासूम नहीं
किसी का हस्ता गुलशन उजड़ा
वक़्त की ऐसी आंधी चली
फूल बेचारा मिला धूल में
काली हवस की लौ में जली
देखना है देखना है इंसाफ़ का मालिक
कते किसे चुभोता है
देता है इतिहास गवाही
तब तब जग में होता है
धर्मयुद्ध धर्मयुद्ध
धर्मयुद्ध
अन्याय अन्याय जब न्याय को कुचले
पुण्य पाप पे रोता है
देता है इतिहास गवाही
तब तब जग में होता है
धर्मयुद्ध धर्मयुद्ध
धर्मयुद्ध.


Lyrics in English

Dharamyudh dharamyudh
Dharamyudh dharamyudh
Anyay anyay jab nyay ko kuchle
Punay pap ko rota hai
Deta hai itihas gawahi
Tab tab jag me hota hai
Dharamyudh dharamyudh
Anyay anyay jab nyay ko kuchle
Punay pap pe rota hai
Deta hai itihas gawahi
Tab tab jag mein hota hai
Dharamyudh dharamyudh
Dharamyudh

Prem pyar ki duniya mein jab
Kadwa bola jata hai
Atyachar ke palde mein jab
Sach ko tola jata hai
Neki or badi mein jab jab
Ek ladai hoti hai
Nirbal ki balwan ke hatho
Jab ruswayi hoti hai
Jab nafrat ke
Jab nafrat ke beez saitan
Yaha par hota hai
Deta hai itihas gawahi
Tab tab jag me hota hai
Dharamyudh dharamyudh
Dharamyudh

Kisi ko khye kul ki chinta
Kisi ko kuch malum nahi
Or kisi ki nazar mein koi
Mujrim hai masum nahi
Kisi ka hasta gulsan ujda
Waqt ki aisi andhi chali
Phul bechara mila dhul mein
Kali hawas ki lo mein jali
Dekhna hai dekhna hai insaf ka malik
Kate kise chhubhota hai
Deta hai itihas gawahi
Tab tab jag mein hota hai
Dharamyudh dharamyudh
Dharamyudh
Anyay anyay jab nyay ko kuchle
Punay pap pe rota hai
Deta hai itihas gawahi
Tab tab jag me hota hai
Dharamyudh dharamyudh
Dharamyudh.

Leave a Reply