Drama

Titli Si Ud Chali (Escape From Taliban)

By  | 

Movie: Escape From Taliban
Release: 2003
Featuring Actors: Manisha Koirala, Nawab Shah
Music Director: Vanraj Bhatia
Lyrics: Mehboob Alam Kotwal
Singer: Alka Yagnik, Sana Aziz
Trivia:

Lyrics in Hindi

तितली सी उड़ चली लेके हवा के पार् को
फूल भी है साथ मेरे
मैं चली ह घर को
तितली सी उड़ चली लेके हवा के पार् को
फूल भी है साथ मेरे
मैं चली ह घर को
यह ज़मीन चलि मेरे संग
आज है मेरा नया रंग
तितली सी उड़ चली लेके हवा के पार् को
फूल भी है साथ मेरे
मैं चली ह घर को
तितली सी उड़ चली लेके हवा के पार् को
फूल भी है साथ मेरे
मैं चली ह घर को

राहों में नज़ारे
कितने है प्यारे प्यारे
हमको जैसे रोके है यह सारे
हमको जैसे रोके है यह सारे
लेकिन न रुकेंगे अपने यह इरादे
मंज़िल को पोहचेंगे हम भी प्यारे
मंज़िल को पोहचेंगे हम भी प्यारे
खुशियों की लहरें है मेरे मन्न में
अपनों से मिलने की है यह उमंग
तितली सी उड़ चली लेके हवा के पार् को
फूल भी है साथ मेरे
मैं चली ह घर को
तितली सी उड़ चली लेके हवा के पार् को
फूल भी है साथ मेरे
मैं चली ह घर को

सपनो का जहाँ वो सपना ही तो था
आँखें जो खुली तो सपना टुटा है
जिसे थी उम्मीदे निकला बेवफा
हुमको यु अकेला उसने छोड़ा है
रहने दो मम्मी बेटी तुम्हारी
देखो चली है तुम्हारे ही संग
तितली सी उड़ चली लेके हवा के पार् को
आज मम्मी संग चली हो
मैं भी अपने घर को
तितली सी उड़ चली लेके हवा के पार् को
फूल भी है साथ मेरे
मैं चली ह घर को
यह ज़मीन चलि मेरे संग
आज है मेरा नया रंग
तितली सी उड़ चली लेके हवा के पार् को
फूल भी है साथ मेरे
मैं चली ह घर को.


Lyrics in English

Titli si ud chali leke hawa ke par ko
Phul bhi hai saath mere
Main chali hu ghar ko
Titli si ud chali leke hawa ke par ko
Phul bhi hai saath mere
Main chali hu ghar ko
Yeh zameen chali mere sang
Aaj hai mera naya rang
Titli si ud chali leke hawa ke par ko
Phul bhi hai saath mere
Main chali hu ghar ko
Titli si ud chali leke hawa ke par ko
Phul bhi hai saath mere
Main chali hu ghar ko

Raaho mein nazaare
Kitne hai pyare pyare
Humko jaise roke hai yeh saare
Humko jaise roke hai yeh saare
Lekin na rukenge apne yeh irade
Manzil ko pohchenge hum bhi pyare
Manzil ko pohchenge hum bhi pyare
Khushiyo ki lehre hai mere mann mein
Apno se milne ki hai yeh umang
Titli si ud chali leke hawa ke par ko
Phul bhi hai saath mere
Main chali hu ghar ko
Titli si ud chali leke hawa ke par ko
Phul bhi hai saath mere
Main chali hu ghar ko

Sapno ka jahan wo sapna hi to tha
Aankhen jo khuli to sapna tuta hai
Jise thi ummide nikla bewafa
Humko yu akela usne chhoda hai
Rehne do mammi beti tumhari
Dekho chali hai tumhare hi sang
Titli si ud chali leke hawa ke par ko
Aaj mammi sang chali hu
Main bhi apne ghar ko
Titli si ud chali leke hawa ke par ko
Phul bhi hai saath mere
Main chali hu ghar ko
Yeh zameen chali mere sang
Aaj hai mera naya rang
Titli si ud chali leke hawa ke par ko
Phul bhi hai saath mere
Main chali hu ghar ko.

Leave a Reply