Drama

Udta Hua Ek Panchhi (Gehra Daag)

By  | 

Movie: Gehra Daag
Release: 1963
Featuring Actors: Rajendra Kumar, Mala Sinha
Music Director: Ravi
Lyrics: Shakeel Badayuni
Singers: Mohammed Rafi
Trivia:

Lyrics in Hindi

आज उड़ता हुआ एक पंछी
ज़िन्दगी की बहार में आया
फिर नयी मस्तिया साथ ले कर
नजरो में साथ ले कर आया
आज उड़ता हुआ एक पंछी
ज़िन्दगी की बहार में आया

आज दुनिया जवा हो गयी है
ज़िंदगी मेहरबा हो गयी है

आज दुनिया जवा हो गयी है
ज़िंदगी मेहरबा हो गयी है

ऐ बहरो तेरी कहानी
अब मेरी दास्ताँ हो गयी है
अब मेरी दास्ताँ हो गयी है
मिल गयी अब मुझे मेरी मंजिल
मई हसीं यादगार में आया
मई हसीं यादगार में आया
आज उड़ता हुआ एक पंछी
ज़िन्दगी की बहार में आया

आ गया फिर सुहाना सवेरा
मिट गया शेम घूम का अँधेरा
आ गया फिर सुहाना सवेरा
मिट गया शेम घूम का अँधेरा

गुनगुनाने लगी है ये बहरे
फिर हवाओं ने नगमा बखेरा
फिर हवाओं ने नगमा बखेरा
साज फिर छिड़ गए जिंदगी के
रंग फिर दिल के तार में आया
आज उड़ता हुआ एक पंछी
ज़िन्दगी की बहार में आया

आज की बेख़ुदी का बताऊ
नगमा ये जिंदगी का सुनौ
आज की बेख़ुदी का बताऊ
नगमा ये जिंदगी का सुनौ

ये बहरे ये गुलके ये कलिया
इनसे अपनी ख़ुशी क्या छुपाऊ
इनसे अपनी ख़ुशी क्या छुपाऊ
जो मेरा राज दिल दाल के है
मैं उन्हें राजदारो में आया
मैं उन्हें राजदारो में आया

आज उड़ता हुआ एक पंछी
ज़िन्दगी की बहार में आया.


Lyrics in English

Aaj udhta hua ek panchi
Zindagi ki bahar me aaya
Fir nayi mastiya sath le kar
Najaro me sath le kar aaya
Aaj udhta hua ek panchi
Zindagi ki bahar me aaya

Aaj duniya jawaa ho gayi hai
Zindgi meharbaa ho gayi hai

Aaj duniya jawaa ho gayi hai
Zindgi mehrabaa ho gayi hai

Ae baharo teri kahani
Ab meri dasta ho gayi hai
Ab meri dasta ho gayi hai
Mil gayi ab mujhe meri manzil
Mai hasi yadgaar me aaya
Mai hasi yadgaar me aaya
Aaj udhta hua ek panchi
Zindagi ki bahar me aaya

Aa gaya fir suhana savera
Mit gaya shame ghum ka andhera
Aa gaya fir suhana savera
Mit gaya shame ghum ka andhera

Gungunane lagi hai ye bahare
Fir hawao ne nagama bakhera
Fir hawao ne nagama bakhera
Saaj fir chid gaye jindgi ke
Rang fir dil ke taar me aaya
Aaj udhta hua ek panchi
Zindagi ki bahar me aaya

Aaj ki bekhudi ka batau
Nagama ye jindgi ka sunau
Aaj ki bekhudi ka batau
Nagama ye jindgi ka sunau

Ye bahare ye gulake ye kaliya
Inse apni khushi kya chupau
Inse apni khushi kya chupau
Jo mera raaj dil dal ke hai
Mai unhe raajdaro me aaya
Mai unhe raajdaro me aaya

Aaj udhta hua ek panchi
Zindagi ki bahar me aaya.

Leave a Reply