Drama

Wah Re Zamane – (Ghar Ki Izzat)

By  | 

Movie: Ghar Ki Izzat
Release: 1948
Featuring Actors: Dilip Kumar, Mumtaz Shanti.
Music Director: Govind Ram
Lyrics: Ishwar Chandra Kapoor
Singer:  Mohammed Rafi
Trivia:

Lyrics in Hindi

वाह रे ज़माने क्या रंग दिखाए
वाह रे ज़माने क्या रंग दिखाए
पल में हसए
पल में रुलाये क्या रंग दिखाए
वाह रे ज़माने क्या रंग दिखाए

मोहब्बत का नन्हा दिया टिमटिमाया
पहले ही जोंके न आकर भुजाये
आँखों में तारीख़ी दिल में अँधेरा
आँखों में तारीख़ी दिल में अँधेरा
पग पग ठोकर खाए
पग पग ठोकर खाये क्या रंग दिखाए
वाह रे ज़माने क्या रंग दिखाए

हाथों की मेहंदी को देखे सुहागन
हाथों की मेहंदी को देखे सुहागन
आँखों में आँसू सुना है आँगन
आँखों में आँसू सुना है आँगन
खुशियों के दिन तो बीत चुके है
खुशियों के दिन तो बीत चुके है
रह गयी हाय हाय क्या रंग दिखाए
वाह रे ज़माने क्या रंग दिखाए
पल में हसए
पल में रुलाये क्या रंग दिखाए
वाह रे ज़माने क्या रंग दिखाए.


Lyrics in English

Wah re zamane kya rang dikhaye
Wah re zamane kya rang dikhaye
Pal mein hasaye
Pal mein rulaye kya rang dikhaye
Wah re zamane kya rang dikhaye

Mohabbat ka nanha diya timtimaya
Pehle hi jonke na aakr bhujaye
Aankho mein tarikhi dil mein andhera
Aankho mein tarikhi dil mein andhera
Pag pag thokar khaye
Pag pag thokar khaye kya rang dikhaye
Wah re zamane kya rang dikhaye

Haatho ki mehandi ko dekhe suhagan
Haatho ki mehandi ko dekhe suhagan
Aankho mein aansoo suna hai aangan
Aankho mein aansoo suna hai aangan
Khushiyo ke din to beet chuke hai
Khushiyo ke din to beet chuke hai
Rah gayi haye haye kya rang dikhaye
Wah re zamane kya rang dikhaye
Pal mein hasaye
Pal mein rulaye kya rang dikhaye
Wah re zamane kya rang dikhaye.

Leave a Reply