Drama

Wo Aaye Ghar Me Humare (Ek Din Ka Badshah)

By  | 

Movie: Ek Din Ka Badshah
Release: 1964
Featuring Actors: Jairaj, Nishi, Jugal Kishore, Sunder
Music Director: Hansraj Behl
Lyrics: Gulshan Bawra
Singer:  Mahendra Kapoor, S.Balbir, Surender Kohli
Trivia:

Lyrics in Hindi

वो आये घर में हमारे
खुदा की कुदरत है
अरे भाई कभी हम उनको
कभी अपने घर को देखते है
अजी एक दिन का बादशाह
यु बेसहारा हो गया

वो आये घर में हमारे
खुदा की कुदरत है
अरे भाई कभी हम उनको
अरे कभी अपने घर को देखते है
अजी एक दिन का बादशाह
यु बेसहारा हो गया
एक दिन का बादशाह
यु बेसहारा हो गया
एक दिन का बादशाह
यु बेसहारा हो गया
जैसे एक शादी शुदा
फिर से कवर हो गया
जैसे एक शादी शुदा
फिर से कवर हो गया

चार दिन की चांदनी
नहीं नहीं भाई
एक दिन की चांदनी
अब अँधेरी रात है
एक दिन का बादशाह
यु बेसहारा हो गया

कल बड़े ऐश से काटी होगी
हाय कोई मोटरमा मर मिटी होगी
हो किसी ने ताज पहनाया होगा
किसी ने राखत दिखलाया होगा

रुकसाना होगी फिर रिहाना होगी
तो फिर सुल्ताना होगी
भाई कोई न भाई कोई न
जवानी देख के गुलनारो की
याद आयी तो होगी यरो की
लौटके बुद्धु घर को आया है
घर भी अपना नहीं पराया है

अजी हम जहा पे मिल गए
वो घर छाबरा हो गया
हम जहा पे मिल गए
वो घर छाबरा हो गया
एक दिन का बादशाह
यु बेसहारा हो गया
जैसे एक शादी शुदा
फिर से कवर हो गया

अरे सुना है
एक बन्दर को मिला था
उस्तरा एक दिन उस्तरा एक दिन
उस्तरा एक दिन
नक़ल उसने जो की हजाम की
तो कट गयी गर्दन
कट गयी गर्दन कट गयी गर्दन
कट गयी गर्दन

सुना था एक ज़ाहिल को
मिला था चांदी का एक लोटा
वो पानी पी पी के उसमे
हुआ बहुत मोटा बम्ब था
चलो अच्छा है खुदा
नाख़ून नहीं देता है
नाख़ून नहीं देता
नाख़ून नहीं देता
नाख़ून नहीं देता
नाख़ून नहीं देता
नहीं तो खुजा कर वो गांजा
लाल कर लेता लाल कर लेता

अजी ताज़ सर से उठ गया
तो सर आवारा हो गया
ताज सर से उठ गया
तो सर आवारा हो गया
एक दिन का बादशाह
यु बेसहारा हो गया
जैसे एक शादी शुदा
फिर से कवर हो गया

अफ़साना सुन ले प्यारे
ये डाग्दर का
हर हाल में निभाया
मैंने साथ यार का

खटमलों ने यु खुन छठा हाय
जैसे आपस की दुश्मनी हो कही
जैसे अपना कही खुदा ही नहीं
आज तुमको भी ये तड़पाएँगे
रात भर चंपे सितम धायेंगे
नींद तुमको भी नहीं आएगी
रात भर नानी याद आयेगी
जैसे की वैसी हिन् भरो तुम भी
अब हवालात में मरो तुम भी
जलो तुम सादो तुम

अरे रात भर में देख
क्या नक्शा हमारा हो गया
रात भर में देख
क्या नक्शा हमारा हो गया
जैसे एक शादी शुदा
फिर से कवर हो गया
एक दिन का बादशाह
यु बेसहारा हो गया
जैसे एक शादी शुदा
फिर से कवर हो गया.


Lyrics in English

Wo aaye ghar me humare
Khuda ki kudrat hai
Are bhai kabhi hum unko
Kabhi apne ghar ko dekhte hai
Aji ek din ka badshah
Yu besahara ho gaya

Wo aaye ghar me humare
Khuda ki kudrat hai
Are bhai kabhi hum unko
Are kabhi apne ghar ko dekhte hai
Aji ek din ka badshah
Yu besahara ho gaya
Ek din ka badshah
Yu besahara ho gaya
Ek din ka badshah
Yu besahara ho gaya
Jaise ek shadi shuda
Phir se kawara ho gaya
Jaise ek shadi shuda
Phir se kawara ho gaya

Char din ki chandani
Nahi nahi bhai
Ek din ki chandani
Ab andheri rat hai
Ek din ka badshah
Yu besahara ho gaya

Kal bade aish se kati hogi
Haye koi motarma mar miti hogi
Ho kisi ne taz pahnaya hoga
Kisi ne rakht dikhlaya hoga

Ruksana hogi phir rihana hogi
To phir sultana hogi
Bhai koi na bhai koi na
Jawani dekh ke gulnaro ki
Yaad aayi to hogi yaro ki
Lotke budhu ghar ko aaya hai
Ghar bhi apna nahi paraya hai

Aji hum jaha pe mil gaye
Wo ghar chabara ho gaya
Hum jaha pe mil gaye
Wo ghar chabara ho gaya
Ek din ka badshah
Yu besahara ho gaya
Jaise ek shadi shuda
Phir se kawara ho gaya

Are suna hai
Ek bandar ko mila tha
Ustara ek din ustara ek din
Ustara ek din
Nakal usne jo ki hajam ki
To kat gayi gardan
Kat gayi gardan kat gayi gardan
Kat gayi gardan

Suna tha ek zahil ko
Mila tha chandi ka ek lota
Wo pani pi pi ke usme
Hua bahut mota bamb tha
Chalo achha hai khuda
Nakhun nahi deta haye
Nakhun nahi deta
Nakhun nahi deta
Nakhun nahi deta
Nakhun nahi deta
Nahi to khuja kar wo ganja
Lal kar leta lal kar leta

Aji taz sar se uth gaya
To sar aawara ho gaya
Taz sar se uth gaya
To sar aawara ho gaya
Ek din ka badshah
Yu besahara ho gaya
Jaise ek shadi shuda
Phir se kawara ho gaya

Afsana sun le pyare
Ye dagdar ka
Har hal me nibhaya
Maine sath yaar ka

Khatmalo ne yu khun chata haye
Jaise aapas ki dushmani ho kahi
Jaise apna kahi khuda hi nahi
Aaj tumko bhi ye tadpayenge
Rat bhar tunpe sitam dhayenge
Nind tumko bhi nahi aayegi
Raat bhar nani yaad aaayegi
Jaise ki vaisi hin bharo tum bhi
Ab havalat me maro tum bhi
Jalo tum sado tum

Are rat bhar me dekh
Kya naksha hamara ho gaya
Raat bhar me dekh
Kya naksha hamara ho gaya
Jaise ek shadi shuda
Phir se kawara ho gaya
Ek din ka badshah
Yu besahara ho gaya
Jaise ek shadi shuda
Phir se kawara ho gaya.

Leave a Reply