Forties(1940-49)

Yeh Afsana Nahin Zalim (Dard)

By  | 



Song Info

Movie: Dard



Release: 1947

Featuring Actors: Shyam Kumar, Nusrat, Munawar Sultana

Music By: Naushad Ali

Lyrics By: Shakeel Badayuni

Singers: Shamshad Begum

Trivia:

Lyrics in Hindi

यह अफ़साना नही ज़ालिम मेरे दिल की हक़ीकत है
मुझे तुम से मोहब्बत है
मुझे तुम से मोहब्बत है
यह अफ़साना नही ज़ालिम मेरे दिल की हक़ीकत है

लगी है आग सिने मे नही कुछ लुफ्त जीने मे
नज़र कुछ कह नही सकती,
कहे बिन रहे नही सकती
तुम्हे क्यों कर मैं समझोउ,
मुझे तुम से मोहब्बत है
यह अफ़साना नही ज़ालिम मेरे दिल की हक़ीकत है

मचलती हैं तमाननाए कहीं रुसवा ना हो जाए
कहीं रुसवा ना हो जाए
मुसीबत उलझने दिल की, क़यामत धड़कने दिल की
तुम्हे क्यों कर मैं समझोउ,
मुझे तुम से मोहब्बत है
यह अफ़साना नही ज़ालिम मेरे दिल की हक़ीकत है

ना जीती हू ना मरती हू, कलिश महसूस करती हू
कहीं ऐसा ना हो जाए कली खिलते ही मुरझाए
तुम्हे क्यूँ कर मैं समझोउ,
मुझे तुम से मोहब्बत है
यह अफ़साना नही ज़ालिम मेरे दिल की हक़ीकत है

Lyrics in English

Yeh afsana nahi jalim mere dil ki hakikat hai
Mujhe tum se mohabbat hai
Mujhe tum se mohabbat hai
Yeh afsana nahi jalim mere dil ki hakikat hai

Lagi hai aag sine me nahi kuchh luft jine me
Najar kuchh kahe nahi saktee,
Kahe bin rahe nahi saktee
Tumhe kayun kar main samajhau,
Mujhe tum se mohabbat hai
Yeh afsana nahi jalim mere dil ki hakikat hai

Machalti hain tamannaye kahin rusava na ho jaye
kahin rusava na ho jaye
Museebat uljhane dil ki, qayamat dhadakane dil ki
Tumhe kayun kar main samajhau,
Mujhe tum se mohabbat hai
Yeh afsana nahi jalim mere dil ki hakikat hai

Na jitee hu na maratee hu, kalish mehasus karatee hu
Kahin aisa na ho jaye kalee khilate hee murjhaye
Tumhe kyun kar main samajhau,
Mujhe tum se mohabbat hai
Yeh afsana nahi jalim mere dil ki hakikat hai.

Official Video

Other Video

No video file selected

Passionate about watching movies and loves listening to songs.

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *